गर्म चूत को मिली लन्ड से मसाज (Garm Choot Ko Mili Land Ki Massage)

गर्म चूत को मिली लन्ड से मसाज
(Garm Choot Ko Mili Land Ki Massage)

मेरे प्रिय दोस्तो, मैं आपकी सखी सविता हाजिर हूँ. मैं आप सबके लिए आज एक और नई सेक्स स्टोरी लेकर आई हूँ. मेरी रसीली सेक्स कहानी पढ़िए और एन्जॉय कीजिये. जैसा कि आप जानते हैं कि मैं अपने ससुर से चुदती हूँ और मुझे ससुर के साथ चुदाई में बहुत मज़ा आता है.

मगर इस बार ये किस्सा उनके साथ चुदाई का नहीं है, बल्कि किसी और के साथ का है. एक दिन अपने बेटे के स्कूल जाने के बाद मैं घर पर अकेली थी. तभी मेरे हस्बैंड के दोस्त की वाइफ का कॉल आया. हम दोनों बेस्ट फ्रेंड हैं और अपनी सारी बातें एक दूसरे से शेयर करती हैं. साथ ही इस बात का पूरा ख्याल रखते हैं कि ये बातें किसी और को पता नहीं चल सकें.

मेरी सहेली का नाम मीनू है. मीनू का फिगर 34D-36-38 का है. उसे भी मेरी तरह चुदाई का शौक है. मीनू सिंह के हस्बैंड मेरे हस्बैंड के साथ ही जॉब करते हैं.

घर का काम खत्म करके मैं मीनू के घर गयी. उसके घर की डोरबेल बजाई, तो मीनू की मेड ने गेट खोला.

मैंने पूछा- मीनू कहां है?
तो वो बोली- भाभी रूम में हैं.

मैं उसके रूम में गयी, तो मीनू मोबाइल में किसी से वीडियो कॉल कर रही थी. मुझे देखकर उसने कॉल कट कर दिया.

वो मुझसे गले लग़कर बोली- कहां रहती है यार … कभी मिलने तो आ जाया कर … या चाचा ससुर तुझे हमेशा नंगी ही रखते हैं.
मैंने कहा- ऐसा कुछ नहीं है यार.
मीनू बोली- यार तेरे तो मजे हैं, घर में ही रोज चुदाई मिलती है.
मैंने कहा- तू कौन सा कम है, तेरा पड़ोसी भी तो तेरी रोज ही लेता है.

इस पर हम दोनों हंसने लगी.

फिर मैंने उससे कहा- वैसे तू अभी किसके साथ बात कर रही थी और मुझे देखकर कॉल कट कर दिया?
वो बोली- एक नया मिला है.
मैंने कहा- कौन है?
वो बोली- उसका नाम बलबीर है … मालिश वाला है. वो मेरे पति की मालिश करने आता था तो मैंने भी अपनी मालिश करवा ली. उसकी पास में ही हेयर ड्रेसर की दुकान है, हेयरकट के साथ मालिश भी करता है.

मैंने कहा- कैसा है देखने में … यंग है या आदमी है?
वो बोली- करीब 48 साल का है … मगर हैंडसम है और चुदाई में बहुत अच्छा है.
मैंने कहा- ये सब हुआ कैसे?
वो बताने लगी:

वो मेरे हस्बैंड की मालिश करने हमेशा आता है और हस्बैंड की मालिश करते हुए मुझे ही घूरता रहता था. मुझे भी अच्छा लगने लगा. एक दिन उसे हस्बैंड की मालिश करने आना था, तभी उस दिन तेरे हस्बैंड का उनके पास कॉल आया, तो वो चले गए.

फिर जब वो मेरे पास आया, तो बोला कि आपके हस्बैंड कहां हैं?
मैंने सोचा कि अगर मैं इससे कह दूंगी वो नहीं हैं, तो ये चला जाएगा. मैंने कहा- बस आने वाले हैं … आप अन्दर आ जाओ.

वो अन्दर आकर बैठ गया. मैं उसके लिए पानी लेकर आयी.
तुझे तो मालूम ही है कि मैं घर में हमेशा एक ढीली सी टी-शर्ट और लोअर या लेग्गिंग्स पहनती हूँ. ब्रा और पेंटी तो घर में पहनना मुझे पसंद ही नहीं है. जब मैं पानी उसे देने लगी, तब मेरी टी-शर्ट से उसे मेरे चूचे दिख गए. वो बस मेरे मम्मों को देखता ही रह गया. उसे मेरी टी-शर्ट से मेरे निप्पल पूरे कड़क दिख रहे थे. मैं भी झुक कर उसे नजारा दिखाती रही.

तभी मैंने पूछा- अंकल आप सिर्फ मर्दों की मालिश करते हैं या औरतों की भी करते हैं.
वो बोला- मैं तो दोनों की करता हूँ.
मैंने कहा- तो आज आप मेरी मालिश कर दो.
तभी अंकल ने बोला- क्यों नहीं … मगर आपके हस्बैंड ने अगर देख लिया, तो वो बुरा तो नहीं मानेंगे.

मैंने अपने होंठों पर जीभ फिराते हुए कहा- उनकी चिंता आप मत करो … आप तो बिंदास, मेरी थकान उतार दो.
उसने भी अपने लन्ड पर हाथ फेरते हुए कहा- अरे ऐसी थकान उतारूंगा कि बार बार याद करोगी.
मैंने कहा- मालिश की लिए क्या पहन लूं.
अंकल- कुछ ढीला सा पहन लो.

मैंने दोअर्थी शब्दों में कहा- आपकी और कस्टमर क्या पहन कर करवाती हैं?
उसने भी मेरी बात समझते हुए कहा- वो लोग ब्रा और पेंटी में भी करवा लेती हैं … इससे उनके कपड़े ख़राब नहीं होते है.
मैंने कहा- इससे उनको शर्म नहीं आती है?
अंकल बोला- मैडम में प्रोफेशन मालिश वाला हूँ … मुझे इससे कुछ फर्क नहीं पड़ता है.
मैंने कहा- ठीक है … आप बैठो मैं अभी आती हूँ.

फिर मैं अन्दर से एक पुरानी ब्रा और एक पेटीकोट पहन कर उसके सामने आ गयी. ये ब्रा पुरानी जरूर थी, लेकिन छोटी से थी. इसमें मेरे आधे से ज्यादा मम्मे साफ़ दिख रहे थे.

वो तो मुझे इस रूप में देखता ही रह गया. वो लन्ड सहलाते हुए बोला- हां ये ठीक है मैडम.

मैंने बेड पर एक चादर बिछाई और लेट गयी. उसने तेल की बोतल लेकर थोड़ा सा तेल मेरे पेट पर गिराया. मेरी तो चुदास के मारे आंखें ही बंद हो गयी थीं.

पेट से तेल बहता हुआ मेरी नाभि में भर गया. वो तेल से वो मेरे पेट पर मालिश करने लगा. उसके हाथ मेरे मक्खन जैसे पेट पर फिसल रहे थे. उसके मदमस्त स्पर्श से मेरी चूत पानी छोड़ने लगी थी.

तभी उसने एक उंगली मेरी नाभि में डाल दी और भरा हुआ तेल बाहर निकाला.

मैंने एक कहानी में पढ़ा था कि नाभि में जब मर्द उंगली डालता है, तो उसका इशारा चुदाई का होता है. उसकी चाहत को मैं समझ गई थी. मुझसे तो खुद अपनी आहें संभालना मुश्किल हो रही थीं.

तभी उसने तेल अपने हाथों में लिया और मेरी चिकनी टांगों पर लगाने लगा. वो मेरी पिंडलियों से शुरू हुआ और मेरे पेटीकोट को हल्के हल्के ऊपर करने लगा. घुटने के नीचे की टांगों से होता हुआ, वो मेरी जांघों तक आ गया. मेरा पेटीकोट मेरी चूत के इर्द गिर्द सिमट गया था. मैंने पैंटी पहनी ही नहीं थी.

मेरी चूत तो पानी पानी हो रही थी.
तभी अंकल ने बोला- मैडम आप पेट के बल लेट जाओ ताकि मैं पीछे टांगों की मालिश कर दूँ.

मैं पेट के बल लेट गयी और उसने मेरा पेटीकोट मेरी गांड तक कर दिया था. उसके हाथ मेरी जांघों पर पकड़ बना रहे थे. मैं उसके मादक मर्दाना स्पर्श से एक अलग ही दुनिया में खोने लगी थी. उसका हाथ जांघों से होता हुआ मेरी गांड पर छू रहा था. इससे वो समझ गया था कि मैंने पेंटी नहीं पहनी है.

तभी वो कमर की मालिश करने लगा उसका लन्ड पूरा टाइट हो चुका था, जो मालिश करते हुए मेरी कमर पर लग रहा था.

अब मुझसे रहा नहीं जा रहा था. मैंने कहा- अंकल थोड़ा ऊपर की मालिश भी कर दो.

वो ऊपर पीठ की मालिश करने लगा. मुझे लगा वो मेरी ब्रा खोलने को बोलेगा मगर उसने ऐसा नहीं किया.

मैंने खुद अपनी ब्रा के हुक खोल दिए और कहा अब ढंग से और आराम से मालिश करो.

वो मेरी पीठ की मालिश करने लगा. मुझे लगा ये बहुत पक्का हरामी खिलाड़ी है. मुझे ही पहल करनी पड़ेगी. तभी मैं एकदम से पलट गयी और मेरे चूचे खुली हुई ब्रा से बाहर आ गए.
वो मेरे मस्त मम्मों को देखता ही रह गया.
मैंने आँख मारते हुए कहा- अंकल, जरा इनकी भी मालिश कर दो.

उसने तेल को मेरे मम्मों के बीच में डाला और मेरे मम्मों को मालिश करने लगा. उसके हाथ मेरे मम्मों पर फिरते हुए मुझे बहुत अच्छे लग रहे थे. वो मेरे निप्पलों को पकड़ कर मालिश करने लगा. अब मुझसे रहा नहीं गया, तो मैंने उसका लन्ड पकड़ लिया.

मैंने कहा- तुम तो पक्के खिलाड़ी हो, मुझे लगा तुम पहल नहीं करोगे.
अंकल बोला- ये बात तो मैं शुरू से ही जानता था कि आज तुम जरूर कुछ करोगी क्योंकि तुम्हारे पति ने मुझे पहले ही कॉल करके बता दिया था. यहाँ तो मैं सिर्फ तुम्हें देखने आया था.

मैंने कहा- तो देर मत करो, अब मेरी चूत बहुत गीली हो रही है.
अंकल बोला- आज इसका सही से इलाज मैं ही करूँगा.

वो मेरे पैरों के आ पास गया और मेरा पेटीकोट ऊपर कर दिया. मेरी चिकनी बिना बालों की चूत देखकर वो मस्त ही गया. वो बोला- आज तो इसे अच्छे से फाड़ूंगा.
मैंने कहा- अब देर मत करो.

उसने अपने मुँह को मेरी चूत पर लगा दिया और मेरी चूत का सारा पानी चाट चाट कर साफ़ कर दिया. मैं तो जैसे जन्नत में आ गयी थी.

तभी अंकल बोला- एक ट्रिक दिखाऊं?
मैंने कहा- दिखाओ.

उसने 2 उंगलियां मेरी चूत में डालीं और हल्के हल्के उन्हें मोड़कर अन्दर घुमाने लगा. दो मिनट के अन्दर ही वो मेरे जी स्पॉट तक पहुंच गया. मैं ज्यादा बर्दाश्त नहीं कर पायी और मेरा पानी निकल गया. मेरे पानी से साथ थोड़ी सी मेरी सुसु भी निकल गई.

अंकल वो सारा रस चाट गया.

मैंने कहा- तुम सच में औरतों की कमजोर नस जानते हो.
अंकल बोला- मुझे ऐसे ही इस काम में 20 साल नहीं हो गए हैं.
मैंने कहा- तो अब तक कितनों को चोदा है?
अंकल ने बोला- इतनी औरतों को संतुष्ट किया है कि मुझे खुद भी याद भी नहीं है.

मैंने उसके मोटे लन्ड को पकड़ा, तो वो मेरे मुँह के पास आ गया. मैंने उसका लोअर नीचे कर कर दिया और उसका मोटा लन्ड मेरे आंखों से सामने आ गया था. उसका सुपारा किसी बड़े टमाटर जैसा था. मोटे फन वाला सुपारा देख कर मेरे तो मुँह में में पानी आ गया था. मैंने तुरंत उसे मुँह में ले लिया और चूसने लगी. अंकल की भी आंखें बंद हो गईं. वो मेरा मुँह पकड़ कर धक्के मारने लगा. उसका लन्ड मेरे गले तक आ रहा था. मेरी आंखों से पानी आने लगा था. मेरे मुँह से ‘गुआक … गुआक …’ की आवाज आ रही थी.

मैं कहा- अब जल्दी से मेरी चुदाई कर दो … कहीं कोई आ न जाए.

अंकल ने अपनी पॉकेट से एक कंडोम निकाला और मैंने उनके लन्ड पर कंडोम चढ़ा दिया.

अंकल झट से मेरी टांगों के पास आ गया और मेरी टांगों को फैला दिया. मेरी चूत तो जैसे उसके लन्ड से चुदने के लिए पानी बहा रही थी. उसने मेरी टांगें अपनी कंधों पर रखीं और अपने लन्ड को मेरी चूत में उतार दिया. उसका सुपारा काफी मोटा था और उसका लन्ड मेरी चूत में पूरा फिट हो गया था. जैसे मेरी चूत के लिए ही बना हो.

मेरी दर्द से आह निकल गई. फिर वो हल्के हल्के मेरी चूत में धक्के मारने लगा. उसका लन्ड मेरी चूत की दीवारों से रगड़ता हुआ जा रहा था. उसके हर एक धक्के में मेरी आह की आवाज निकल जाती थी. जब उसका लन्ड मेरी चूत में एडजस्ट हो गया, तब उसने धक्के तेज कर दिए. इस पोज़ में उसने मुझे 5 मिनट चोदा और मेरी चूचियों को चूस चूस कर लाल कर दिया.

फिर उसने अपने लन्ड को निकाल लिया. मैंने देखा कि उसका लन्ड पूरा गीला पड़ा हुआ था. मैंने उसका लन्ड तुरंत मुँह में ले लिया. उसके लन्ड का और मेरी चूत के पानी मिला जुला स्वाद बहुत अच्छा लग रहा था.

तभी अंकल ने मुझे कुतिया बना दिया और मेरी चूत में लन्ड लगा कर मुझे रगड़ने लगा. फिर उसने अपने लन्ड को मेरी चूत में डाल दिया और मेरे मम्मों को अपने हाथों से मसलते हुए मेरी चुदाई करने लगा. उसकी चुदाई मुझे एक अलग ही मज़ा दे रही थी.
गर्म चूत को मिली लन्ड से मसाज (Garm Choot Ko Mili Land Ki Massage)
गर्म चूत को मिली लन्ड से मसाज (Garm Choot Ko Mili Land Ki Massage)
हमारी उस 30 मिनट की चुदाई में मैं 2 बार झड़ी. जब उसका निकलने वाला था, तो वो कंडोम निकालते हुए बोला कि कहां निकालूँ मैडम?
मैंने कहा- जहां आप चाहते हो.
वो बोला- आपके मुँह पर.
मैंने ओके कह दिया.

उसने सारा माल मेरे मुँह पर निकाल दिया. मैंने चखा, बहुत मजेदार स्वाद था. उसका टेस्ट मक्खन जैसा था.
फिर मैं अपना चेहरा साफ़ करके आयी.

मैंने कहा- अंकल सच में बहुत मज़ा आया.
अंकल बोला- एक राउंड और हो जाए.
मैंने कहा- आज नहीं, मैं तुम्हें खुद बुला लूंगी.

फिर वो अपने कपड़े पहन कर जाने लगा, तो मैंने उसे एक डीप किस किया.

मैंने कहा- अंकल, हमारे मोहल्ले की और भी औरतें तुमसे चुदवाती हैं?
वो बोला- हां कई हैं. मगर मैं किसी की बात किसी से नहीं कहता हूँ.

मुझे उसकी ये बात अच्छी लगी.
फिर वो चला गया.
उस दिन के बाद हम दोनों ने कई बार चुदाई की है.

मीनू की बातें सुनकर मेरी चूत पूरी गीली हो गयी थी.

तभी मीनू बोली- सविता तू तो पूरी गीली हो रही है … तू कहे, तो अंकल को बुला लूं?
मैंने कहा- क्या अभी ऐसा हो सकता है.
वो बोली- हां, वो अभी आ जाएगा.

मीनू ने अंकल को कॉल किया और बीस मिनट बाद अंकल आ गया. उसने घंटी बजायी, तो मीनू ने गेट खोला.

अन्दर आते ही उसने मीनू को किस करना शुरू कर दिया. वो मीनू को रूम में लेकर आया, जहां मैं बैठी हुई थी.
मुझे देखकर वो डर गया.
मीनू बोली- ये मेरी बेस्ट फ्रेंड है सविता … आज इसकी भी मालिश कर दो.
अंकल बोला- मालिश अपने औजार से करूँ या तेल से?
तब मैंने कहा- औजार क्या बोलते हो अंकल … सीधे बोलो न … मैं आपके लन्ड से ही मालिश करवा लूंगी, वैसे भी काम तो वही चुदाई वाला करवाना है.

वो मेरे पास आ गया और मेरे बालों को पकड़ कर खींचते हुए बोला- लगता है दोनों जंगली बिल्लियां हैं. आज तो मज़ा आ जाएगा.
तभी मीनू बोली- तुम आज इसको ही मज़ा दे दो … मैं बाद में करवा लेती हूँ.

अंकल ने मुझे किस करना शुरू कर दिया. मैंने भी उसका पूरा साथ दिया. उसने मेरे मम्मों को खूब मसला. मैंने भी उत्तेजित होकर उसकी पैंट उतार दी और उसका लन्ड हाथ में पकड़ लिया. उसका लन्ड बिना खड़े हुए भी मोटा और लम्बा लग रहा था.

मैंने उसका लन्ड सहलाया और सीधे अपने मुँह में डाल कर चूसने लगी. उसका लन्ड खड़ा होने लगा था. बस 2 मिनट में ही उसका लन्ड पूरा टाइट हो गया था.
उसके बाद उसने मेरा ब्लाउज खींचा और सारे बटन एक ही झटके में खुल गए. ब्लाउज उतारने के बाद उसने मेरी साड़ी भी खोल दी. अब में सिर्फ ब्रा और पेटीकोट में थी, जो कि उसे बहुत उत्तेजित कर रहा था.

मेरी ब्रा में मेरे बड़े बूब्स, मेरी कमर पर पड़ते बल और मेरी सेक्सी गहरी नाभि को देखकर वो पागल हो रहा था.

उसने मुझे बेड पर लिटा दिया. मीनू ये सब देखकर अपनी चूत रगड़ रही थी. अंकल मेरे ऊपर आ गया और मेरे होंठों को किस करता हुआ मेरे बूब्स दबाने लगा. उसने मेरी ब्रा खोल दी और मेरे दोनों मम्मों को अपनी हाथों में लेकर जोर जोर से दबाने लगा. कभी वो मेरे एक मम्मे को अपने मुँह में लेकर चूसता तो कभी मेरे निप्पल को अपनी दो उंगलियों से जोर से उमेठ कर रगड़ देता. इससे मेरी चूत पानी पानी हो रही थी.

तभी अंकल मेरी नाभि में अपनी जीभ डाल दी और खेलने लगा. मेरी नाभि मेरी कमजोरी है, उसकी नुकीली और खुरदुरी जीभ से मैं तो जैसे पागल सी हो गयी थी. मेरी मादक आवाजें तेज हो गयी थीं.

मैंने चुदासी होते हुए कहा- ओह्ह … अंकल … बहुत मज़ा आ रहा है … अंकल अब लन्ड डाल दो यार … चूत में बहुत आग लगी है.

मीनू कंडोम लेकर आयी और मैंने अंकल का लन्ड चूस कर उस पर कंडोम चढ़ा दिया. अंकल बेड से नीचे उतर गया और उसने मुझे कमर से खींच कर बेड के कोने पर ले लिया. उसका लन्ड मेरी चूत पर लगने लगा.

अब अंकल ने अपना लन्ड पकड़ कर मेरी चूत पर लगा दिया और हल्के हल्के मेरी चूत पर रगड़ने लगा. मेरी गीली चूत तो जैसे उसके लन्ड से लिए तड़प रही थी.

उसने अपने लन्ड को मेरी चूत में एकदम से पेल दिया. उसके लन्ड डालते ही मेरी मुँह से आह्ह निकल गई. दो तीन झटकों में ही उसका लन्ड मुझे बहुत मज़ा देने लगा था. अंकल मुझे पूरी ताकत से चोदने लगा. मेरी कामुक आहें पूरे कमरे में गूंज उठीं.

उसी वक्त मीनू को किसी का कॉल आया और वो बाहर चली गयी. अंकल मुझे बहुत जोर जोर से धक्के मार रहा था. उसके हर धक्के पर मेरे चूचे ऊपर नीचे हो रहे थे. अंकल ने मेरे दोनों मम्मों को जोर से दबाया और चूत में धक्के मारने लगा.

मैंने कहा- अंकल, अब मुझे कुतिया बना कर चोदो.
उसने अपने लन्ड को बाहर निकाला, तभी बाहर से मीनू आ गयी.

मैंने कुतिया बनते हुए पूछा- किसका कॉल था?
वो बोली- हस्बैंड का.
मैंने कहा- आने वाला तो नहीं है न?
वो बोली- नहीं … तू आराम से मज़ा ले.

तभी अंकल ने मीनू को नीचे बैठा दिया और मेरी चूत से निकला हुआ लन्ड उसके मुँह में दे दिया. मीनू मेरी चूत का पानी लगा लन्ड चूसने लगी. मीनू को तो जैसे बहुत मज़ा आ रहा था और अंकल जी का लन्ड तो जैसे पूरा अकड़ रहा था.

अब मैं उनके सामने कुतिया वाले पोज़ में आ गयी थी. मेरी मोटी गांड और मेरी चूत का खुला छेद तो जैसे उन्हें बुला रहा था.

अंकल जी ने अपने लन्ड को मेरी चूत में घुसा दिया और मेरी गांड पकड़ कर जोर जोर से धक्के मारने लगे. अंकल के हर धक्के के साथ थप थप की आवाज आ रही थी. डॉगी पोज़ में चोदते हुए मेरा पानी निकल गया.

तभी अंकल थोड़ी देर के लिए रुक गए. वो बोले- हो गया सविता तेरा?
मैंने कहा- हां अंकल जी … पर आप चोदते रहो.

अंकल धक्के देते रहे. अंकल बोले- तुम थक गयी होगी. चल तुझे दूसरे पोज में चोदता हूँ.

अब अंकल बेड पर लेट गए और मैं उनके लन्ड पर बैठ गयी. अंकल का लन्ड पूरा मेरी चूत में समा गया. अंकल ने मेरी गांड को पकड़ कर अपने लन्ड पर मारने लगे. उनका पूरा लन्ड सुपारे तक निकल कर फिर से पूरा अन्दर जाने लगा था. मुझे अंकल का लन्ड का एक एक इंच महसूस हो रहा था.

मैं खुद तेजी से ऊपर नीचे होने लगी. अंकल ने मुझे अपने ऊपर झुका कर किस करना शुरू कर दिया.

पांच मिनट बाद अंकल ने बोला- सविता मेरा भी होने वाला है … मलाई कहां लेगी?
मैंने कहा- जहां आपका मन हो.

तभी अंकल बेड के नीचे खड़े हो गए और कंडोम निकाल कर अलग कर दिया. अंकल ने मुझे फिर से बेड के किनारे लाकर मेरी टांगें फैला दीं. वो नीना कंडोम के लन्ड से मेरी चुदाई करने लगे.

मैंने कहा- अंकल जी मेरा भी होने वाला है.
अंकल बोले- दोनों साथ में झड़ते हैं.
मैंने हामी भर दी.

अंकल धक्के देते हुए मेरी चूचियों और निप्पल रगड़ रहे थे. तभी मेरा पानी निकल गया.

जब अंकल का होने वाला था, तो उन्होंने तुरंत लन्ड निकाल लिया और मेरे मम्मों और पेट पर अपना सारा माल निकाल दिया. उनका माल बहुत गाढ़ा था. मैंने अपने मम्मों से उठा कर उसे टेस्ट किया. उनका कुछ माल मेरी नाभि में भर गया था.

उसके बाद में अंकल और मीनू लेट गए. थोड़ी चूमाचाटी के बाद मीनू ने बिना चुदे ही अंकल को भेज दिया क्योंकि उसके बेटे के स्कूल से आने का टाइम हो गया था इसलिए मैंने भी अपने कपड़े पहन लिए.

मीनू बोली- मज़ा आया तुझे?
मैंने कहा- हां यार बहुत मजा आया.

जब मैं जाने लगी तो मीनू बोली- यार मुझे भी अपने चाचा ससुर का लन्ड चखा दे जरा.
मैंने कहा- जरूर यार … मैं जल्दी ही प्लान करके बता दूंगी.

मीनू ने मुझे अपनी बांहों में भर के चूम लिया. मैंने भी उसके दूध दबा दिए.

आगे की सेक्स स्टोरी में मैं आपको बताऊँगी कि मैंने मीनू को कैसे अपने गांव में चाचा ससुर के लन्ड से चुदवाया और मज़ा लिया.
गर्म चूत को मिली लन्ड से मसाज (Garm Choot Ko Mili Land Ki Massage) गर्म चूत को मिली लन्ड से मसाज (Garm Choot Ko Mili Land Ki Massage) Reviewed by Priyanka Sharma on 8:56 AM Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.