सील पैक माल की नर्म चूत की चुदाई (Seal Pack Maal Ki Narm Choot Ki Chudai)

सील पैक माल की नर्म चूत की चुदाई (Seal Pack Maal Ki Narm Choot Ki Chudai)

दीदी मुझे कहती हैं कि कुनाल तुम मुझे मेरे ऑफिस तक छोड़ देना मैंने दीदी को कहा ठीक है दीदी मैं आपको आपके ऑफिस तक छोड़ दूंगा दीदी को मैंने उनके ऑफिस छोड़ा और मैं अपने कॉलेज चला गया। 

मैं जब अपने कॉलेज पहुंचा तो मेरे दोस्त मुझे कहने लगे कि कुनाल आज तुम कॉलेज में देर से आ रहे हो तो मैंने उन्हें कहा मैं दीदी को छोड़ने के लिए चला गया था इसलिए आने में देरी हो गई। 

कॉलेज में शिवांगी भी पड़ती है शिवांगी जब भी मुझे देखती है तो मुझे अच्छा लगता है लेकिन मैं शिवांगी को कभी भी अपने दिल की बात कह ना सका कितने वर्ष हो गए परंतु मैंने शिवांगी से कभी ज्यादा बात की ही नहीं। 

शिवांगी को जब भी मैं देखता हूं तो मुझे लगता है कि शायद मैं उससे बात कर ही नहीं पाऊंगा इस वजह से मैं शिवांगी से बात भी नहीं कर पाया और मेरा एक तरफा प्यार बस मेरे अंदर तक ही सीमित होकर रह गया। शिवांगी को एक दिन अपने किसी काम से कहीं जाना था तो शिवांगी ने मुझे कहा कि कुनाल क्या तुम मुझे मेरे घर तक छोड़ दोगे। 

पहली बार ही शिवांगी ने मुझसे आकर कुछ कहा था तो मैं उसे कैसे मना कर सकता था मैंने शिवांगी को कहा ठीक है मैं तुम्हें तुम्हारे घर तक छोड़ देता हूं।

मैंने शिवांगी को उसके घर तक छोड़ा और रास्ते में जब उसने मेरे कंधे पर अपने हाथ को रखा तो मेरी दिल की धड़कन बड़ी तेजी से ऊपर नीचे हो रही थी लेकिन मैं फिर भी शिवांगी से बात नहीं कर पाया। जब मैंने शिवांगी को उसके घर पर छोड़ा तो उसने मुझे धन्यवाद कहा और कहने लगी कि चलो घर में मैं तुम्हें अपने मम्मी पापा से मिलवाती हूं मैंने शिवांगी को कहा नहीं शिवांगी कभी और उनसे मिल लूंगा और फिर मैं अपने घर चला गया। 

हम लोगों को कॉलेज खत्म हो चुका था और मैं अब अपनी नौकरी की तैयारी कर रहा था उसी समय मेरे दोस्त का मुझे फोन आया और उसने मुझे बताया कि शिवांगी की जॉब लग चुकी है और वह जॉब करने के लिए मुंबई जा रही है। 

मैं कभी मुंबई के बारे में सोच भी नहीं सकता था क्योंकि मैं छोटे से शहर का रहने वाला एक लड़का हूँ और भला मैं शिवांगी को कैसे अपने दिल की बात कह पाता यह भी मुझे समझ नहीं आ रहा था।

मैंने शिवांगी को अपने दिल की बात भी नहीं कहीं और ना ही मैंने शिवांगी से कुछ कहा शिवांगी अब मुंबई जा चुकी थी मैं अभी भी बनारस में ही था लेकिन मेरे दिल में अभी भी शिवांगी के लिए वही प्यार था जो कि पहले था मैं सोचने लगा कि काश मैं शिवांगी को अपने दिल की बात कह पाता। 

कुछ समय के लिए मैंने बनारस में ही एक छोटी मार्केटिंग की नौकरी ज्वाइन कर ली जब उस नौकरी को मैंने जॉइन किया तो करीब 6 महीने तक मैंने वहां पर काम किया लेकिन मुझे लगा कि शायद मैं यहां पर काम नहीं कर पाऊंगा इसलिए मैंने वहां से काम छोड़ दिया। 

अब मैं घर पर ही था पापा और मम्मी का मुझ पर दबाव था वह लोग कहने लगे कि कुनाल बेटा तुम अपने भविष्य के बारे में कुछ सोचते भी हो या नहीं लेकिन मैं उन्हें कहने लगा कि मैं जरूर कुछ ना कुछ कर लूंगा आप लोग निश्चिंत रहें परंतु मुझे भी यह बात मालूम थी कि यह सब इतना आसान होने वाला नहीं है इसके लिए मुझे कई गुना ज्यादा मेहनत करनी पड़ेगी। 

मेरी अंग्रेजी पहले से ही बहुत तंग थी इसलिए मैंने अपनी अंग्रेजी को सुधारने के लिए एक कोचिंग सेंटर में अंग्रेजी सीखने का फैसला किया। मैं अंग्रेजी क्लास जाने लगा था धीरे-धीरे मेरे अंदर अब वह कॉन्फिडेंस आने लगा था मुझे लगा कि मुझे अब नौकरी के लिए किसी अच्छी जगह पर ट्राई करना चाहिए। 

एक दिन मैंने अखबार में देखा अखबार में एक मुंबई की कंपनी का इश्तेहार था मुंबई के नाम सुनते ही मेरे दिमाग में सिर्फ शिवांगी का चेहरा आया मैंने सोचा कि अगर मेरी नौकरी इस कंपनी में लग जाती है तो क्या मैं शिवांगी को मिल पाऊंगा लेकिन फिलहाल तो मेरा सबसे पहला उद्देश्य नौकरी हासिल करना था। 

जब मैं उस कंपनी में इंटरव्यू देने के लिए गया तो वहां पर मेरा सिलेक्शन भी हो गया मुझे बिल्कुल उम्मीद नहीं थी मुझे तो लग रहा था कि शायद मेरा सिलेक्शन होगा ही नहीं परन्तु अब मेरे पास एक अच्छी नौकरी थी और मैं मुंबई भी जाने वाला था। मेरे दिल में अभी भी शिवांगी के लिए वही प्यार था मैं जब मुंबई गया तो मैं सिर्फ यही सोचने लगा कि क्या मैं शिवांगी से मिल पाऊंगा।

मुझे जॉब करते हुए करीब 3 महीने हो चुके थे इन 3 महीनों में मेरे कई दोस्त बने लेकिन अभी तक मुझे शिवांगी का कोई अता पता नहीं चल पाया था। मैं शिवांगी के बारे में जानना चाहता था मैंने अपने दोस्तों को फोन किया और उन्हें कहा कि क्या तुम्हारे पास शिवांगी का नंबर है लेकिन मुझे शिवांगी का नंबर कहीं से भी नहीं मिल पाया और ना ही मुझे यह पता था कि शिवांगी रहती कहां है। 

मैं अपने ऑफिस से जब फ्री होता तो अक्सर मैं शाम के वक्त टहलने के लिए निकल जाया करता था लेकिन मुझे इस बात का बिल्कुल अंदाजा नहीं था कि शिवांगी से एक दिन मेरी मुलाकात हो ही जाएगी। जब शिवांगी मुझे मिली तो शिवांगी ने मुझे देखते ही कहा कुनाल तुम यहां क्या कर रहे हो तो मैंने उसे कहा मैं तो यहीं नौकरी कर रहा हूं शिवांगी मुझे कहने लगी चलो यह तो बहुत खुशी की बात है। 

शिवांगी भी बहुत खुश थी और मुझे इस बात की उम्मीद नहीं थी कि शिवांगी से मेरी बात हो पाएगी शिवांगी ने मुझसे बड़ी खुलकर बात की लेकिन शिवांगी बदल चुकी थी। शिवांगी की वेशभूषा और उसके बात करने का तरीका सब कुछ बदल चुका था लेकिन मुझे शिवांगी से बात कर के अच्छा लगा मैंने शिवांगी का नंबर ले लिया क्योंकि मैं नहीं चाहता था कि अब मैं कोई गलती करूं मैं इस मौके को अपने हाथ से नहीं जाने देना चाहता था।

मेरे अंदर भी अब कॉन्फिडेंस आ चुका था और मैं शिवांगी को अपने दिल की बात तो कहना ही चाहता था आखिरकार शिवांगी को मैं दिल ही दिल जो चाहता था उसके लिए मैंने पूरी तरीके से सोच लिया था कि मैं शिवांगी को प्रपोज कर के ही रहूंगा। 

शिवांगी और मेरी मुलाकात होती ही रहती थी जब भी हम दोनों मिलते तो मुझे शिवांगी से मिलकर अच्छा लगता और मुझे इस बात की खुशी होती कि कम से कम मैं शिवांगी से मिलता रहता हूं। शिवांगी से मिलना मेरे लिए किसी सपने से कम नहीं था और एक दिन मैंने शिवांगी को डिनर के लिए इनवाइट किया और उसे अपने दिल की बात कह दी शायद शिवांगी को यह बात अच्छी नहीं लगी। 

शिवांगी ने उस वक्त तो मुझे कुछ नहीं कहा परंतु कुछ दिनों बाद शिवांगी का फोन मेरे नंबर पर आया और शिवांगी ने मुझे बड़े ही प्यार से कहा कि मुझे तुमसे मिलना है। मैं खुश हो गया और मुझे यह समझ आ गया कि शिवांगी मुझसे बात करना चाहती है मैं शिवांगी को मिलने के लिए चला गया। जब मैं शिवांगी से मिलने के लिए गया तो शिवांगी ने उस दिन मुझे गले लगा लिया। 

जब उसने मुझे गले लगाया तो मैं भी अपने आपको रोक ना सका मैंने शिवांगी के होठों को चूम लिया शिवांगी को मैंने वही जमीन पर लेटा दिया और उसके होठों का मैं रसपान करने लगा उसके मुलायम होठों को मैंने बहुत देर तक अपने होठों में लेकर चूसा हम दोनों के बदन पूरी तरीके से गर्म हो चुके थे।

काफी देर तक चुम्मा चाटी के बाद हम दोनों रह नहीं पा रहे थे मैंने शिवांगी को कहा तुम बहुत अच्छी हो शिवांगी मुझे कहने लगी कुनाल आज तुमने मेरे बदन की गर्मी को बढ़ा दिया है शिवांगी ने भी कभी सोचा नहीं था हम दोनों जब मिलेंगे तो एक दूसरे के साथ चूत चुदाई का खेल खेलेंगे। 
सील पैक माल की नर्म चूत की चुदाई (Seal Pack Maal Ki Narm Choot Ki Chudai)
सील पैक माल की नर्म चूत की चुदाई (Seal Pack Maal Ki Narm Choot Ki Chudai)
मैंने शिवांगी की योनि पर अपनी उंगली को लगाया तो उसकी योनि से गिलापन बाहर की तरफ हो निकल रहा था और वह बहुत ज्यादा उत्तेजित हो गई थी।

मैंने जैसे ही उसकी योनि के अंदर अपनी उंगली को डाला तो वह पूरी तरीके से उत्तेजित हो चुकी थी मैंने अपने लंड को बाहर निकाला तो उसने अपने मुंह के अंदर उसे ले लिया, वह मेरे लंड को संकिग करने लगी। 

वह  जिस प्रकार से मेरे लंड को अपने गले के अंदर तक ले रही थी मुझे बहुत मजा आ रहा था मेरा सपना सच हो चुका था मैंने कभी कल्पना भी नहीं की थी कि यह सब इतने जल्दी हो जाएगा क्योंकि मुझे इस बात की बिल्कुल भी उम्मीद नहीं थी मैं शिवांगी के साथ सेक्स का मजा ले पाऊंगा। 

शिवांगी ने मेरे लंड को चूस कर पूरा गीला कर दिया था अब उसने अपने दोनों पैरों को खोला तो मैंने उसकी चूत के अंदर अपने लंड को प्रवेश करवा दिया उसकी चूत के अंदर मेरा मोटा लंड जैसे ही घुसा तो वह चिल्ला उठी और उसकी मादक आवाज मेरे कान में जाने लगी।

शिवांगी सील पैक थी मैंने जैसे ही अपने लंड को उसकी चूत के अंदर डाला तो उसकी सील टूट चुकी थी उसकी चूत के अंदर से खून बाहर की तरफ निकलने लगा था। मैंने उसे अब लगातार तेजी से धक्के देने शुरू किए और जिस प्रकार से मैंने उसे धक्के मारे उससे वह कहने लगी कुनाल आज मुझे बहुत अच्छा लगा। 

मैंने उससे कहा मजा तो मुझसे भी बहुत आ रहा है और जिस प्रकार से हम दोनों ने सेक्स का मजा लिया उस से हम दोनो के बदन से पसीना आने लगा था और थोड़ी देर बाद मैंने शिवांगी को घोड़ी बनाया और उसकी चूत के अंदर लंड को डाला तो वह चिल्ला उठी। 

उसकी चूत के अंदर मेरा लंड घुस चुका था मैं लगातार तेजी से उसकी नर्म और मुलायम चूत का मजा ले रहा था मैं  जब उसकी चूतड़ों पर प्रहार करता तो उसकी चूतड़ों का रंग लाल हो जाता वह मेरा साथ बड़े ही अच्छे से देती मैं उसे बहुत तेजी से धक्के मारता। 

मेरा लंड उसकी चूत के अंदर बाहर होता तो वह भी उत्तेजित हो जाती है वह मुझे कहती मैं ज्यादा देर तक अब रह नहीं पाऊंगी मेरा भी गरमा गरम वीर्य उसकी चूत के अंदर गिरा। उसने मुझे गले लगाते हुए कहा आई लव यू कुनाल यह बात सुनने के लिए मेरे कान तरस गए थे और मैंने उसे गले लगाते ही कहा आई लव यू टू।
सील पैक माल की नर्म चूत की चुदाई (Seal Pack Maal Ki Narm Choot Ki Chudai) सील पैक माल की नर्म चूत की चुदाई (Seal Pack Maal Ki Narm Choot Ki Chudai) Reviewed by Priyanka Sharma on 10:04 PM Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.