कमसिन कालगर्ल से मजे लिए (Kamsin Callgirl Se Maje Liye)

कमसिन कालगर्ल से मजे लिए
(Kamsin Callgirl Se Maje Liye)

सोचा काफी दिन हो गए अपने परिवार के साथ कहीं अकेले समय भी नहीं बिताया तो इसी उम्मीद में अपने बच्चों को मूवी दिखाने के लिए लेकर चला गया मेरे साथ मेरी पत्नी भी थी। 

मैंने गाड़ी को पार्किंग में लगाया और वहां से लिफ्ट लेकर मैं चौथी मंजिल पर पहुंचा वहां के गार्ड ने हमें कहा सर आपको 10 मिनट और इंतजार करना पड़ेगा। मैंने उसे कहा ठीक है भैया और हम लोग वहीं सोफे पर बैठ गए 10 मिनट का इंतजार ऐसा लग रहा था कि जैसे कितना लंबा इंतजार हो लेकिन वह 10 मिनट भी आखिरकार कट ही गए। 

जैसे ही 10 मिनट हुए तो उस गार्ड ने कहा सर आप टिकट दिखा दीजिए हमने उन्हें टिकट दिखाया और हम लोग हॉल के अंदर चले गए। जब हम लोग अंदर जा रहे थे तो अंदर काफी अंधेरा था मुझे अपने मोबाइल की टॉर्च ऑन करनी पड़ी मैंने अपने बच्चों से कहा बेटा देख कर जाना। हम लोगों को अपनी सीट मिल गई हम लोग अपनी सीट पर बैठे थे कि एक लड़का और लड़की कहने लगे सर यह क्या एस3 है मैंने उसे कहा नहीं यह एस3 नहीं है एस3 बिल्कुल इसके नीचे है।

उन्होंने मुझे धन्यवाद कहा और वह लोग वहां चले गए बच्चे और मेरी पत्नी मेघा मूवी का इंतजार कर रहे थे तभी मूवी के शुरू होते ही सब लोग तालियां बजाने लगे। अब मूवी शुरू हो चुकी थी बच्चे और मेघा पूरी तरीके से मूवी में खो चुके थे मुझे भी मूवी देख कर अच्छा लग रहा था हीरो अपनी दबंगई से गुंडों की पिटाई कर रहा था और मैं यह देख कर खुश था। 

मेरा के चेहरे पर भी मुस्कुराहट थी और वह लोग मूवी के अंदर इतना खो चुके थे कि उन्हें आसपास की भी कोई भी चीज का अहसास नहीं था तभी इंटरवल हो गया इंटरवल होते ही ऐसा लगा कि जैसे मजा किरकिरा हो गया हो। मुझे तो लग रहा था कि मूवी चलती रहनी चाहिए परंतु इंटरवल भी जरूरी था इंटरवल हुआ तो मैं मेघा से कहने लगा क्या तुम लोग कुछ खाओगे मेघा कहने लगी आप देख लीजिए। 

मैंने मेघा से कहा तुम लोग यहीं बैठो मैं अभी आता हूं और मैं बाहर चला गया पहले तो हम लोग सिंगल थिएटर में ही देखा करते थे और कोल्ड ड्रिंक पीकर ही काम चला दिया करते थे परंतु अब समय बदल चुका है।

मैंने बच्चों के लिए पिज़्ज़ा ऑर्डर करवा दिया और मेघा और मैंने पॉपकॉर्न ले लिया पॉपकार्न भी बड़ा महंगा था उतने में तो 5 दिन की सब्जी आ जाए लेकिन मैं अपनी फैमिली के साथ आया हुआ था इसलिए मैंने उस वक्त पैसे की कोई चिंता नहीं की। 

जब मैं वापस आया तो कुछ देर बाद ही एक 22 23 वर्ष का लड़का आया और कहने लगा सर यह आपका ऑर्डर है मैंने उसे बिल दिखाते हुए कहा हां यह मेरा ही ऑर्डर है अब वह मुझे मेरा ऑर्डर थमा चुका था। मैंने पिज्जा बच्चों को दिया तो बच्चे भी बड़े चाव से पिज्जा का आनंद ले रहे थे और वह पिज्जा में इतना खो गए थे कि उन्हें कुछ मालूम ही नहीं चला कि कब मूवी शुरू हो गई। 

जैसे ही मूवी शुरू हुई तो बच्चे कहने लगे पापा मूवी तो शुरू हो चुकी है मैंने बच्चों से कहा बस अभी तो शुरू हुई है और वह लोग फिर से मूवी में खो गए। मेघा भी मूवी देखने लगी थी मेरे हाथ में पॉपकॉर्न का बॉक्स था लेकिन मेघा अब पॉपकॉर्न नहीं खा रही थी मैंने मेघा से कहा तुम पॉपकॉर्न खा लो वह पॉपकॉर्न खाती और मूवी की तरफ़ देखते जाती। 

बच्चे भी मूवी में पूरी तरीके से खो चुके थे और जब मूवी का अंत हुआ तो ऐसा लगा मानो कितने समय से हम लोग मूवी देख रहे हो। अब हम लोग मूवी की कल्पना से बाहर आ चुके थे और हम लोग पार्किंग की तरफ गए जब हम लोग पार्किंग की तरफ गए तो मेरे बगल में लगी हुई गाड़ी को देख कर मुझे ऐसा लगा कि शायद यह गाड़ी कहीं तो मैंने देखी है तभी उसी वक्त मुझे रमेश दिखाई दिया। 

मैंने रमेश से कहा तुम यहां क्या कर रहे हो वह कहने लगा मैं तो यहां मूवी देखने के लिए आया था मैंने रमेश से कहा मैं भी तो मूवी देख रहा था वह कहने लगा यार पता ही नहीं चला। 

मैंने उसे कहा खैर छोड़ो तुम्हारा काम कैसा चल रहा है वह कहने लगा मेरा काम तो अच्छा चल रहा है तुम सुनाओ  तुमने आजकल एक नई फैक्ट्री खोल ली है। मैंने रमेश से कहा हां मैंने नई फैक्ट्री खोली है लेकिन फिलहाल उसका काम तो इतना अच्छा नहीं चल रहा मैंने रमेश से कहा मैं तुम्हें मिलता हूं अभी तो फैमिली के साथ आया हूं इसलिए अभी यहां पर बात करना ठीक नहीं है।

रमेश भी अपने परिवार के साथ आया हुआ था और फिर वह भी अपनी कार में बैठा, मैंने कर को बाहर निकाला तो मैंने अपनी पत्नी से पूछा मैं तुम्हें वह स्लीप दी थी ना वह कहां है। वह कहने लगी अभी देखती हूं उसने पर्स में देखा तो उसके पर्स में ही वह स्लिप थी मैंने बाहर खड़े गार्ड को वह स्लिप दिखाई और उसने हमे वहां से जाने दिया। 

अब हम लोग वहां से सीधा ही अपने घर आ गए मुझे घर आने में करीब आधा घंटा लगा और आधे घंटे बाद  जब हम लोग घर आए तो मेरी पत्नी कहने लगी कि क्या वह आपके दोस्त हैं। मैंने अपनी पत्नी से कहा वह मेरा दोस्त है मेरी पत्नी कहने लगी लेकिन मैंने उन्हें कभी नहीं देखा मैं उनसे पहली बार ही मिली थी। 

मैंने अपनी पत्नी को बताया दरअसल रमेश से मेरी मुलाकात एक बिज़नेस डील के माध्यम से हुई थी और उसके बाद से वह मेरा अच्छा दोस्त बन चुका है। मेघा कहने लगी चलिए आप भी सो जाइए और मुझे भी बहुत नींद आ रही है मैंने मेघा से कहा ठीक है उसके बाद हम लोग सो चुके थे मुझे वाकई में बहुत तेज नींद आ रही थी इसलिए मैं जल्दी सो गया था। 

बिस्तर पर लेटते ही मुझे नींद आ गई सुबह जब आंख खुली तो मेघा उठ चुकी थी मेघा कहने लगी उठ जाइये। मैंने मेघा से कहा बस थोड़ी देर बाद मैं उठ जाऊंगा कुछ ही देर बाद मैं उठा तो मैंने मेघा से पूछा बच्चे कहां है। मेघा कहने लगी बच्चे तो स्कूल जा चुके हैं मैंने मेघा से कहा चलो यह तो अच्छा हुआ कि वह लोग स्कूल चले गए नहीं तो आज भी घर में तुम्हें परेशान कर रहे होते।

मेघा कहने लगी हां वह लोग परेशान तो जरूर करते लेकिन उनके साथ में समय का भी तो पता नहीं चलता। मैंने मेघा से कहा तुम बिल्कुल ठीक कह रही हो और हम दोनों आपस में बात करने लगे मैंने घड़ी की तरफ देखा तो घड़ी में 10:00 बज चुके थे। मैंने मेघा से कहा लगता है मुझे अब निकलना चाहिए और मैं तैयार होकर अपने ऑफिस के लिए निकल पड़ा। 

मैं जब अपने ऑफिस के लिए निकला तो मैंने देखा मेरे फोन पर रमेश का कॉल आ रहा था क्योंकि मैंने फोन को साइलेंट कर रखा था इसलिए मैं रमेश का कॉल देख नहीं पाया मैंने उसे जब कॉल किया तो वह कहने लगा तुम अभी कहां हो। मैंने रमेश को बताया मैं तो अभी ऑफिस जा रहा हूं वह कहने लगा ठीक है मैं तुमसे मुलाकात करता हूं और यह कहते हुए उसने फोन रख दिया। 

अब वह मुझसे मिलने के लिए मेरे ऑफिस आना चाहता था और जब रमेश मुझसे मिलने के लिए ऑफिस में आया तो मुझे उससे मिलकर बहुत अच्छा लगा इतने समय बाद हम लोग मिल रहे थे। रमेश मुझे कहने लगा तुमसे मिलकर बहुत अच्छा लग रहा है और सुनो तुमने जो नई फैक्ट्री खोली है वह कैसी है चल रही है? 

मैंने उसे बताया रमेश अभी तो उसका काम इतना अच्छा नहीं चल रहा है लेकिन उम्मीद है कि कुछ समय बाद उसका काम अच्छा चलने लगेगा। वह मुझे कहने लगा अच्छा तो तुम्हें क्या लगता है कि उसका काम अच्छा चलने लगेगा। मैंने उसे कहा उम्मीद तो है अब देखते हैं आगे क्या होता है रमेश एक नंबर का  अय्याश व्यक्ति है।

वह मुझे कहने काफी दिन हो गए कहीं कुछ एंजॉयमेंट भी नहीं हो पाया है। मैंने उसे कहा तुम क्या चाहते हो तो वह कहने लगा चलो तुम आज मेरे साथ चलो। मैंने उसे कहा शाम के वक्त देखते हैं मैं ऑफिस से फ्री हो जाऊंगा। 

हम लोगों ने कुछ बिजनेस को लेकर बात की और शाम के वक्त जब मै रमेश से मिला तो वह मुझे कहने लगा आज कुछ रंगीन करते हैं। मैंने रमेश से कहा तुम क्या चाहते हो तो वह कहने लगा यार आजकल मेरे पास एक लड़की बड़ा कॉल कर रही है मुझे तो पूरा शक है कि वह एक कॉल गर्ल है। 

मैंने जब रमेश से कहा तुम उसे बुला लो तो रमेश ने उसे बुला लिया। जब वह आई तो उसे देखकर हम दोनों ही अपने आपको ना रोक सके। हम दोनों के अंदर उत्तेजना जागने लगी रमेश ने मुझे उसका नाम बताया और उसका नाम माधुरी है। माधुरी को देखकर मेरा लंड हिलोरे मारने लगा था और मैं माधुरी को अपना बनाना चाहता था लेकिन रमेश ने पहले माधुरी के साथ मजे लिए।

उसने पहले मजा करने का फैसला किया माधुरी और रमेश अंदर कमरे में थे उसकी आवाज साफ आ रही थी। उसे सुनकर मै बहुत ज्यादा उत्तेजित हो जाता और मुझे बहुत मजा आ रहा था। रमेश ने उसके साथ काफी देर तक संभोग किया जब उसकी इच्छा भर गई तो वह दोनो कमरे से बाहर आ गए। 
कमसिन कालगर्ल से मजे लिए (Kamsin Callgirl Se Maje Liye)
कमसिन कालगर्ल से मजे लिए (Kamsin Callgirl Se Maje Liye)
रमेश मुझे कहने लगा अब तुम माधुरी को चोदो मैने माधुरी की चूत को चाटना शुरु किया जब मै माधुरी की चूत को चाट रहा था तो मुझे मजा आता। माधुरी की चूत अब मचलने लगी थी माधुरी ने मेरे लंड को चूत पर लगाया तो मुझे मजा आने लगा। माधुरी की चूत मे मेरा लंड जा चुका था माधुरी की चूत मे मेरा लंड अंदर घुसते ही उसकी चूत से पानी निकलने लगा था। 

वह मुझे अपनी बाहो मे जकडने लगी जैसे ही उसकी चूत के अंदर बाहर लंड होता तो मजा आ जाता उसका हुस्न लाजवाब था मेरा वीर्य गिरते ही मुझे मजा आ गया और कुछ देर तक उसने मेरे लंड को मुंह मे लेकर चूसा और मेरे लंड पर लगे माल को चाटकर साफ कर दिया। माधुरी जैसी माल मुशकिल से नसीब होता है।
कमसिन कालगर्ल से मजे लिए (Kamsin Callgirl Se Maje Liye) कमसिन कालगर्ल से मजे लिए (Kamsin Callgirl Se Maje Liye) Reviewed by Priyanka Sharma on 11:57 PM Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.