बंध्या फंसी चुदाई के जाल में-3 (Bandhya Fansi Chudai Ke Jaal Me-3)

बंध्या फंसी चुदाई के जाल में-3
(Bandhya Fansi Chudai Ke Jaal Me-3)

पिछली कहानी बंध्या फंसी चुदाई के जाल में-2 (Bandhya Fansi Chudai Ke Jaal Me-2) में मैंने भोला सिंह को बताया कि कैसे मामा के भतीजे की शादी में पहली बार मुझे चार लंडों का मजा मिला. कई दिन तक मेरी चूत दुखती रही.
फिर मैंने उनको वह कहानी बताई जब मेरे जीजा के भाई सुरेंद्र और उनके मकान मालिक ने मुझे मिल कर चोदा था. उस दिन पहली बार मेरी सील टूटी थी.  अब आगे:

मैंने भोला से कहा- इस तरह आप लोगों के साथ मेरा यह तीसरा वाकया है जब मैं एक से ज्यादा मर्दों के साथ चुदी हूं. आज भी मुझे बहुत मजा आ रहा है.

मेरे पापा बने जीजा से मैंने कहा- आप भी मेरी गांड को अच्छे से चोद दो. मुझे बहुत पागलपन चढ़ रहा है.

जीजा बोले- हां बेटी, आज मैं तेरी गांड की जमकर चुदाई कर दूंगा. मुझे नहीं पता था कि तू गांड मरवाने में भी इतनी आगे निकल चुकी है. आज मैं तेरी सारी हसरत पूरी कर दूंगा. तेरी चूत को तो भोला भाई चोद रहे हैं और मैं तेरी गांड को अच्छी तरह से चौड़ी कर दूंगा. आज के बाद से मैं तुझे बिल्कुल आजाद कर दूंगा. तेरा जब मन करे तू यहां पर आ सकती है. तू यहां आकर आराम से भोला भाई से अपनी चूत को चुदवा सकती है.

भोला सिंह यह बात सुनकर खुश हो गया और बोला- तुमने तो दिल खुश कर दिया भाई, बंध्या के साथ ही तुम भी यहां पर आ सकते हो. तुम्हारे लिये भी हमारा लॉज बिल्कुल फ्री है. रहना-खाना सब मुफ्त में होगा. तुम तो बहुत ही मस्त निकले अपनी बेटी के मामले में. बंध्या के लिए भी यह लॉज एकदम से सुरक्षित है और जिसे चाहे यहां पर लेकर आ सकती है और अपनी चुदाई करवा सकती है. जबरदस्त चुदक्कड़ लड़की है तेरी बेटी तो.
इतना कहकर भोला अब मेरी चूत को जमकर फैलाते हुए चोदने लगा. वह कस कर मेरी चूत में धक्के लगाने लगा.

भोला ने कहा- मैं तो हैरान हूं इस साली का स्टेमिना देख कर. इतना कैसे चुदवा लेती है ये.
मैंने कहा- भोला, मैं तुम्हारे लिए भी हमेशा यहां आने के लिए तैयार रहूंगी. तुम भी मेरी चूत को जब चाहो मुझे यहां बुलाकर चोद सकते हो.
फिर मैंने पापा से कहा- आप भी मेरी गांड को जमकर चोदो, तुम्हारी बंध्या तुम्हारी रंडी बन कर रहेगी. तुम मुझे भी अपनी ही समझना.

जीजा बोले- साली कुतिया, तुझे तो मैं बेटी की तरह नहीं अपनी बीवी की तरह रखूंगा. तू चिंता मत कर. जब भी तुझे अपनी चूत की प्यास बुझवानी होगी तू मुझे बेझिझक बता देना. मैं तुझे यहां लेकर आ जाऊंगा. इसके साथ ही मैं तेरे लिए और भी बड़े-बड़े लंडों का इंतजाम कर दिया करूंगा. जब भी तू किसी को बुलाएगी तो मैं तेरी चुदाई को मैनेज कर लूंगा.

इतना कह कर जीजा मेरी गांड में जोर-जोर से लंड को डालते हुए चोदने लगे. वो बोले- तेरी गांड बहुत मस्त है बंध्या, मैं तुझे चोद चोद कर पागल कर दूंगा.
इसके साथ ही भोला भी मेरी चूत में जोर के धक्के देने लगा. मैं उन दोनों की चुदाई से बिल्कुल पागल सी होने लगी. दोनों के साथ लिपट कर चुदवाने लगी.

तभी भोला ने कहा- मेरा माल निकलने वाला है … आह्ह ..
यह कहकर भोला ने मेरी चूत में अपना लंड जड़ तक घुसा दिया और फिर पूरा लौड़ा अंदर-बाहर करते हुए आवाज निकालने लगा. आह-आह … आह-आह … करते हुए भोला ने मुझे कस कर पकड़ लिया और बोला- साली रंडी बंध्या अब मैं और नहीं टिक सकता हूं तेरी चूत में, मेरा काम तमाम होने ही वाला है.

भोला ने मेरी चूत में अपने लंड को फुल स्पीड से रगड़ना शुरू कर दिया. उसने मेरे बालों को पकड़ कर खींचना शुरू कर दिया और मेरे होंठों को कस कर चुमते हुए मेरी जीभ को निकाल कर चूसने लगा. इतना जोर जोर से अपने लन्ड को मेरी चूत में डालने लगा कि मैं पागल हो उठी.

तभी भोला के लंड से गर्म-गर्म लावा निकल कर मेरी चूत में भरने लगा. उसके लंड के रस से मेरी चूत और उबलने लगी. वह बहुत जोर से हांफने लगा. उसने मुझे अपनी बांहों में जकड़ लिया और बोला- बंध्या, मेरी नज़र में तो तू दुनिया की सबसे मस्त आइटम है और दुनिया की सबसे चुदक्कड़ लड़की है. मैंने अपनी जिंदगी में इतना मजा पहले कभी नहीं लिया था जितना तेरी चूत को चोद कर लिया है. तूने इतनी मस्ती से खुल कर मुझसे चुदवाया है कि मैं तेरा कायल हो गया हूं. तेरे लिए तो मैं कुछ भी करने के लिए तैयार हूं. मेरे रहते अब तुझे किसी बात की चिंता करने की जरूरत नहीं है.

एक मिनट के अंदर ही भोला का लंड मेरी चूत में ही सिकुड़ कर छोटा हो गया. मैंने भोला सिंह को कस कर पकड़ा हुआ था. मैं बोली- साले और चोद, अभी मत उठ. मेरा और चुदने का मन कर रहा है. मैं अभी तक संतुष्ट नहीं हुई हूं. मेरा पानी भी निकलवा साले.

भोला ने कहा- तेरा यह काम अब तेरा बाप करेगा. तू तो बहुत ही ज्यादा स्टेमिना वाली लड़की है. तुझे तो तीन-चार मर्द एक साथ चाहिएं. तभी तू संतुष्ट हो सकती है. मैंने ऐसी माल, ऐेसी चुदक्कड़ लड़की अपनी जिंदगी में कभी नहीं देखी थी. मैंने पचास साल की उम्र में एक से एक गर्म चूतों को चौड़ी करके रूलाया है लेकिन तू तो साली इतनी महान रंडी है कि तेरे सामने तो मेरा लंड भी कमजोर पड़ गया.

तेरी मां ने तुझे कौन से लंड से चुद कर पैदा किया था जो तू इतनी गर्म हो जाती है. तेरी मां का स्टेमिना भी जरूर तेरे जैसा ही होगा.
जीजा बोले- नहीं, ये साली तो अपनी मां से भी चार कदम आगे निकल गई है. उसने तो एक बार में एक ही का लंड लिया है लेकिन इसने तो एक साथ चार-चार लंडों को शांत किया है. अभी भी देख लो, हम तीनों कितनी देर से इसकी चूत और गांड को चोदने में लगे हुए हैं लेकिन इसकी प्यास बुझने का नाम नहीं ले रही है.

भोला ने कहा- लगता है इसकी चूत में लंड को खाने की मशीन लगी हुई है. मैं तो सोच रहा हूं कि तेरा जवान यार तुझे कैसे शांत कर पायेगा. तू जब इतने महान मर्दों के लौड़ों को निचोड़ रही है तो उसकी छोटी सी लुल्ली तेरी गर्म भट्टी के सामने कहां टिक पायेगी. लेकिन पता नहीं तुझे उसमें क्या दिखाई देता है जो तू फोन पर उसके साथ अपनी चूत को शांत कर लेती है.
बंध्या फंसी चुदाई के जाल में-3 (Bandhya Fansi Chudai Ke Jaal Me-3)
बंध्या फंसी चुदाई के जाल में-3 (Bandhya Fansi Chudai Ke Jaal Me-3)
मैंने कहा- मैं उससे प्यार करती हूं भोला. उसी से मिलने तो मैं तो यहां पर आई थी लेकिन तुम लोगों ने मुझे गर्म कर दिया. अब मुझे शांत करो. ये तुम्हारी जिम्मेदारी है.
“अब तो तेरा बाप ही तुझे शांत करेगा.” यह कहते हुए भोला ने मेरे हाथों से खुद को छुड़ा लिया और उठ कर खड़ा हो गया. उठते हुए मेरे बाप बने जीजा से बोला- भाई तू अपना लंड अब इसकी गांड से निकाल ले और अपनी बेटी को अपनी बीवी मान कर इसकी चूत को जम कर रगड़ दे. अगर यह प्यासी रह गई तो हम दोनों के मर्द होने का कोई मतलब नहीं है.

भोला के कहने पर मेरे जीजा ने मेरी गांड से अपना लंड निकाल लिया और मेरी कमर को पकड़ कर थोड़ा ऊपर करके मेरी दोनों टांगों को अपने कंधे पर रख लिया और एक जोर की चुम्मी मेरी चूत में ली और बोले- क्या गजब चूत है तेरी बंध्या. इसमें तो भोला का लंड भरा पड़ा है. मगर अब तू देख मैं भी तेरी इस चूत को कैसे अपने लंड से रगड़ता हूं. मैंने आज से तुझे अपनी बेटी के साथ अपनी बीवी भी मान लिया है. भोला भाई इसके गवाह भी हैं.

ऐसा कहते हुए जीजा ने मेरी गर्दन को पकड़ लिया और अपने लंड का सुपाड़ा निपोर कर मेरी चूत के छेद में जैसे ही डाला तो बिना ताकत लगाए ही फच से उनका लंड मेरी चूत में पूरा का पूरा समा गया. भोला ने मेरी चूत को चोद चोद कर चौड़ी कर दिया था.

जीजा बोले- साली जब तू इतनी छोटी सी उम्र में इतनी चुदक्कड़ हो गई है तो तू अपनी माँ उम्र में जाकर तो शहर की बहुत बड़ी रंडी बन जायेगी. साली कुतिया, मैं तो बहुत लकी हूं जो तुझे जब चाहूं चोद सकता हूं.

उन्होंने पूरी ताकत के साथ मेरी चूत में लंड को पेल दिया. मैं जीजा के धक्कों के बदले में अपनी कमर को उछालने लगी. मेरी चुदास अभी शांत नहीं हुई थी और मैं जीजा का पूरा साथ दे रही थी.

मैंने कहा- ओ मेरे बापू, मेरे गांडू बाप, कुत्ते, साले चोद मुझे. अपनी रंडी बेटी को चोद दे आज. पूरा मजा दे दे इसकी चूत को. ये चूत इतनी आसानी से शांत होने वाली नहीं है. बहुत से लंडों को खा चुकी है ये. थोड़ा और जोर लगा साले.
मैं अपने होश में नहीं थी और जीजा को गंदी-गंदी गालियां दे रही थी.

जीजा बोले- अब बाप-बेटी का रिश्ता भूल जा. मुझे अपना मर्द ही समझ. मैं तेरा मर्द हूं साली छिनाल.
मैंने कहा- हां, कमीने मुझे अपनी रखैल ही बना ले तू. अपनी बीवी बना या कुछ भी बना लेकिन मेरी चूत को चोद कर इसकी आग को बुझा साले हरामी. मेरी चूत को फाड़ दे. जीजा को मेरी चूत में लंड पेलते हुए चार-पांच मिनट ही हुए थे कि पता नहीं मेरी चूत में एकदम से क्या भूचाल सा आ गया. मैंने कस कर जीजा को पकड़ लिया अपने नाखून उनको नोंचने लगी.

जीजा बोले- क्या कर रही है साली, मारेगी क्या मुझे … साली कुतिया.
मैंने कहा- पता नहीं, पता नहीं क्या हो रहा है मुझे. बहुत मजा आ रहा है … आह्ह … आआ आ आ … तूने तो मुझे पागल कर दिया है और जम कर चोद मुझे. पूरा घुसा दे मेरी चूत में अपना लंड.
ऐसा कहते हुए मेरी चूत से एक फव्वारा सा फूट पड़ा और गर्म-गर्म रस बहने लगा.

जीजा बोले- साली रंडी तेरी चूत से इतना रस कैसे बाहर आ रहा है. तू इतनी देर में जाकर शांत होने को आई है. कितने ही लंड खा गई है तू मेरी रखैल. अब तो तुझे शांति मिल गई होगी.

कुछे इसी तरह के शब्दों के साथ जीजा जोर-जोर से मेरी चूत में धक्के मारने लगे. वो कहने लगे- मेरा लंड जल जायेगा तेरी चूत के लावे से. अब मुझसे नहीं रहा जा रहा है. अब मैं क्या करूं … आह्ह … मेरा लौड़ा भी बहने वाला है मेरी रंडी. कहां डालूं … जल्दी बता … आह्ह …
मैंने कहा- मेरी चूत में ही भर दो. मेरी चूत बहुत प्यासी है. इसको अपने पानी से नहला दो मेरे मर्द जीजा.

जीजा ने कस कर मुझे अपनी बांहों में जकड़ लिया और एकदम से मेरे तने हुए दूधों को पकड़ कर अपने लंड को चूत में बुरी तरह से पेलने लगे … आह्ह … आह्… करते हुए वो ऐसे चीख रहे थे जैसे उनका लंड अभी फटने ही वाला है किसी बॉम्ब की तरह.
मैं भी जीजा के साथ ही चीखने लगी- जीजा, मेरी चूत को फाड़ दे. अपने लंड से इसके चिथड़े कर दे. मैं तेरे लंड की पूजा करूंगी सारी उम्र. वो आशीष साला तो मेरी चूत को अभी तक फोन पर ही गर्म करके छोड़ देता है. मैं तुम्हारे लंड की प्यासी हूं. इसको इतना चोद दे कि यह साली कई दिन तक होश में न आये.

मेरी इस गंदी कामुके सेक्सी स्टोरी का अंत अगले भाग में होने वाला है. आप कमेंट करके जरूर बतायें कि आपको मेरी कहानी कैसी लग रही है.
अगला भाग : बंध्या फंसी चुदाई के जाल में-4 (Bandhya Fansi Chudai Ke Jaal Me-4)
बंध्या फंसी चुदाई के जाल में-3 (Bandhya Fansi Chudai Ke Jaal Me-3) बंध्या फंसी चुदाई के जाल में-3 (Bandhya Fansi Chudai Ke Jaal Me-3) Reviewed by Priyanka Sharma on 5:07 PM Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.