सेक्सी गर्ल की गांड चुदाई (Sexy Girl Ki Gaand Chudai)

सेक्सी गर्ल की गांड चुदाई
(Sexy Girl Ki Gaand Chudai)

लता मुझे कहती है कि भैया आज गोविंद मिलने के लिए आ रहे हैं मैंने लता से कहा गोविंद कितने बजे तक आएंगे तो लता कहने लगी कि भैया वह 12:00 बजे तक आ जाएंगे। मैंने लता को कहा लेकिन मुझे अभी कहीं जाना था तो लता कहने लगी भैया आप देख लीजिए यदि गोविंद आएंगे तो मैं उनसे बात कर लूंगी। 

लता और गोविंद के बीच तलाक होने की नौबत आ गई थी और गोविंद इसी सिलसिले में बात करने के लिए हमारे घर आने वाले थे लेकिन मुझे भी अपने किसी जरूरी काम से जाना था इसलिए मैंने लता को कह दिया था कि यदि गोविंद आए तो तुम उन्हें घर पर रुकने के लिए कहना। 

मैं अपने काम पर जा चुका था और जब मैं घर पहुंचा तो उस वक्त 1:00 बज रहा था मैंने लता से कहा लता क्या गोविंद आए थे तो और लता कहने लगी हां भैया गोविंद आए थे और वह ज्यादा देर यहां नहीं रुके। मैंने लता को कहा लता तुमने गोविंद से क्या बात की।

लता कहने लगी भैया मैंने उनसे प्यार से बात की थी लेकिन आपको तो मालूम है कि उनका गुस्सैल स्वभाव मुझे बिल्कुल भी पसंद नहीं है और उसकी वजह से ही वह मुझ पर गुस्सा होने लगे। मुझे उन दोनों के बीच के रिश्ते को समझ पाने में बहुत दिक्कत हो रही थी मैं कुछ भी समझ नहीं पा रहा था कि आखिर इसमें गलती किसकी है क्योंकि लता मेरी बहन है इसलिए उसके प्रति मेरे लिए एक सहानुभूति रहती है। 

गोविंद से लता की शादी कुछ समय पहले ही हुई थी लेकिन उन दोनों की अनबन के चलते लता घर आ गई। मैं इस बात से परेशान जरूर था कि लता के लिए मुझे कोई और लड़का देखना चाहिए क्योंकि हमारे रिश्तेदार मुझ पर ही उंगली उठाने लगे थे।

माता पिता की मृत्यु के बाद ही मैंने लता का पालन पोषण किया और उस वजह से मैंने अभी तक शादी नहीं की है लेकिन जब भी मुझे लगता था कि मुझे लता को समझाना चाहिए लेकिन लता और गोविंद के बीच बिल्कुल भी नहीं बनी और उन दोनों ने आखिरकार डिवोर्स लेने के बारे में सोच ही लिया।

अब उन दोनों का डिवोर्स हो चुका था और लता घर पर ही थी मेरी चिंता दिन-ब-दिन बढ़ती जा रही थी और मैं इस बात से बहुत ही ज्यादा परेशान हो चुका था। मेरा दोस्त मनोज एक दिन मुझे कहने लगा सुनील तुम कुछ ज्यादा ही परेशान नजर आ रहे हो तो मैंने मनोज को कहा यार तुम तो जानते ही हो ना कि लता की परेशानी की वजह से मैं बहुत परेशान होने लगा हूं और मुझे कई बार लगता है कि मुझे लता के लिए कोई अच्छा लड़का देखना चाहिए। 

मनोज मुझे कहने लगा दोस्त तुम चिंता मत करो सब कुछ ठीक हो जाएगा तुमने बचपन से लेकर अभी तक अपने जीवन में सिर्फ संघर्ष ही तो किया है। मनोज मेरे संघर्ष की पूरी कहानी जानता है मनोज मेरे बचपन का दोस्त है और किस प्रकार से मैंने लता का पालन पोषण किया और उसकी शादी करवाई लेकिन उसकी शादी ज्यादा दिनों तक गोविंद के साथ चल नहीं पाई। 

मैंने लता के लिए दूसरा लड़का देखना शुरू कर दिया था लेकिन अभी तक मुझे कोई ऐसा लड़का मिल ही नहीं पाया था जो कि लता का ध्यान रख पाए। आखिरकार मेरी तलाश पर उस वक्त विराम हुई जब हमारे किसी रिश्तेदार के माध्यम से मेरी मुलाकात संजय से हुई संजय से मिलकर मुझे अच्छा लगा संजय के जीवन में भी शायद उथल पुथल ही थी इसलिए उसने लता के साथ शादी करने के बारे में सोच लिया था। 

मैंने संजय को सब कुछ बता दिया था और संजय को इस बात से कोई भी आपत्ति नहीं थी संजय मुझे कहने लगा कि भैया मुझे इस बात से कोई भी आपत्ति नहीं है उसके बाद संजय और लता की शादी हो चुकी थी। संजय लता का बहुत अच्छे से ध्यान रखता था मैं लता को जब भी फोन करता तो उससे हमेशा ही पूछता कि तुम खुश तो हो ना लता हमेशा कहती कि हां भैया मैं खुश हूं। 

कम से कम मुझे इस बात की चिंता तो नहीं थी कि अब लता परेशान है नहीं तो लता मानसिक रूप से बहुत परेशान हो चुकी थी। मैं अपने जीवन के संघर्षों से बहुत परेशान था लेकिन मैंने कभी भी अपनी परेशानियों को अपने चेहरे पर आने नहीं दिया। जब भी मेरा मन हो तो मैं अपने दिल की बातें अपने दोस्त मनोज को कह दिया करता मनोज ही एक ऐसा था जिसे कि मैं हर बात बताया करता था और मुझे बहुत अच्छा लगता था कि मनोज को मैं अपनी परेशानी बताता हूं।

मनोज और मैं एक दिन मनोज के घर पर ही बैठे हुए थे मनोज मुझे कहने लगा कि सुनील तुम्हें मालूम है मेरे मामा जी का लड़का जो कि हमारे घर पर अक्सर आया करता था। मैंने मनोज से कहा कहीं तुम प्रदीप की बात तो नहीं कर रहे हो मनोज मुझे कहने लगा हां प्रदीप की ही मैं बात कर रहा हूं वह एक उच्च अधिकारी बन चुका है। 

मैंने मनोज से कहा यह तो बड़ी खुशी की बात है मनोज कहने लगा मैं सोच रहा था कि प्रदीप से मिलने के लिए उसके घर पर जाया जाय। मैंने मनोज को कहा तुम जब प्रदीप से मिलने के लिए जाओगे तो मुझे भी बताना मैं भी तुम्हारे साथ चलूंगा मनोज कहने लगा ठीक है मैं जब प्रदीप के घर जाऊंगा तो तुम्हें जरूर बताऊंगा। कुछ दिनों बाद हम लोगों ने प्रदीप के घर जाने का फैसला किया और हम दोनों प्रदीप के घर चले गए। 

मनोज जब अपने मामा जी से मिला तो वह मामा जी को बधाई देने लगा मैंने भी मामा जी को बधाई दी और थोड़ी देर बाद प्रदीप भी हमें मिला प्रदीप को हम लोगों ने बधाई दी और उसके साथ काफी देर तक हम लोग बैठे रहे। मनोज की मामी जी हमारे लिए पानी लेकर आए तो हम लोगों ने पानी पिया और आपस में एक दूसरे से हम लोग बात कर रहे थे। मैं पहली बार ही प्रदीप के घर पर गया था।

वहां पर मेरी नजर मानसी पर पड़ती है मानसी प्रदीप की बहन है। मानसी से मेरी बात तो हो नहीं पाई लेकिन वह मुझे बहुत अच्छी लगी मै उस से बात करने के सपने अपने मन में पालने लगा लेकिन ऐसा हो नहीं पाया मैं यही सोच रहा था कि काश मैं मानसी से बात कर पाऊ उसके लिए मुझे काफी समय तक रुकना पड़ा। 

जब मेरी बात मानसी से हुई तो मुझे बहुत अच्छा लगा यह बात मैंने मनोज को भी नहीं बताई थी मानसी और मेरा रिश्ता सिर्फ हम दोनों तक ही सीमित था हम लोग किसी को भी इस बारे में नहीं बताना चाहते थे। मानसी ने मुझे साफ तौर पर मना कर दिया था तुम इस बारे में किसी को भी कुछ नहीं बताओगे मैंने मानसी को वादा किया था कि मैं इस बारे में किसी को भी नहीं बताऊंगा और इसी वजह से मैंने किसी को भी अपने और मानसी के रिश्ते के बारे में नही बताया। 

हम लोग चोरी छिपे मिला करते थे मै जब भी मानसी से मिलता तो मुझे बहुत अच्छा लगता और मानसी के साथ फोन पर मैं कई बार अश्लील बातें कर लिया करता था। एक दिन हम दोनो मिले जब हम दोनों के बदन की गर्मी बहुत ज्यादा बढ़ने लगी तो हम दोनो ही अपने आपको नहीं रोक पाए मैंने मानसी के जांघ पर अपने हाथ को रखा और सहलाना शुरू किया। 

मैं जब उसकी जांघ को सहला रहा था तो मुझे अच्छा लग रहा था वह बहुत ज्यादा उत्तेजित हो गई थी। मुझे इस बात की खुशी थी कि मैं मानसी के साथ संभोग करने वाला हूं कुछ देर बाद वह उत्तेजित हो गई मै उसके होठों को चूमने लगा मुझे उसके होठों को चूमने में बड़ा मजा आ रहा था मै पूरी तरीके से उत्तेजित हो गया।

मैंने मानसी से कहा तुम मेरे लंड को अपने मुंह मे ले कर चूसना शुरू करो उसने मेरे लंड को अपने मुंह में ले लिया और उसे वह सकिंग करने लगी उसे बड़ा अच्छा लग रहा था। जब हम दोनों अपने आपको ना रोक सके तो मैंने मानसी के कपड़ों को उतारा और उसके बदन को मैंने अपनी जीभ से अच्छे से चाटा काफी देर तक मै उसके स्तनों को अपने मुंह में लेता रहा तो मुझे बड़ा मजा आ रहा था वह पूरी तरीके से उत्तेजित हो चुकी थी। 
सेक्सी गर्ल की गांड चुदाई (Sexy Girl Ki Gaand Chudai)
सेक्सी गर्ल की गांड चुदाई (Sexy Girl Ki Gaand Chudai)
हम दोनों ही अपने आपको रोक नहीं पाए जैसे ही मैंने अपने लंड को मानसी की चिकनी और कोमल चूत के अंदर डालना शुरू किया तो वह चिल्लाने लगी। वह कहने लगी मुझे बहुत अच्छा महसूस हो रहा है कुछ देर बाद उसकी चूत से खून का रिसाव होने लगा था वह पूरी तरीके उत्तेजित हो चुकी थी मुझे बहुत ज्यादा गर्मी महसूस हो रही थी। हम दोनों ही बिल्कुल भी रह नहीं पा रहे थे मैं ज्यादा देर तक मानसी के साथ शारीरिक संबंध स्थापित ना कर सका उस दिन वह घर चली गई। मैंने जब मानसी को फोन किया तो वह कहने लगी आज मुझे बहुत तकलीफ हो रही है।

मैंने उससे कहा कोई बात नहीं ठीक हो जाएगा कुछ दिनों बाद वह मुझे मिलने के लिए आई उस दिन उसका सेक्स करने का मन कुछ ज्यादा ही हो रहा था उसने मुझे कहा मुझे आज तुम्हारे साथ शारीरिक संबंध बनाने है। मैंने मानसी की चूत के मजे काफी देर तक लिए जब मैंने उसकी गांड के अंदर लंड को घुसाया तो वह चिल्ला उठी और कहने लगी मुझे बड़ा दर्द हो रहा है। 

मैं काफी देर तक उसे ऐसे ही धक्के मारता रहा मुझे मज़ा भी बहुत आ रहा था उसकी गांड के अंदर से कुछ ज्यादा ही गर्मी बाहर की तरफ निकलने लगी तो वह मुझे कहने लगी मुझे बहुत ज्यादा दर्द हो रहा है। मैंने उसे कहा थोड़ी देर में तुम्हे मजा आ जाएगा मैं उसे लगातार तेजी से धक्के दिए जा रहा था जिससे कि उसके मुंह से चीख निकल रही थी। 

वह मुझे कहने लगी मुझे अच्छा लगने लगा है वह आपनी चूतडो को मुझसे मिलाने पर लगी हुई थी और मैं उसे वैसे ही धक्के मार रहा था। उसकी चूतड़ों का रंग लाल होने लगा था मैं पूरी तरीके से उत्तेजित होने लगा था मैं बहुत ज्यादा जोश में आ गया था और उसे भी बहुत मजा आ रहा था मैने उसकी चूत मे माल को गिरा दिया था।
सेक्सी गर्ल की गांड चुदाई (Sexy Girl Ki Gaand Chudai) सेक्सी गर्ल की गांड चुदाई (Sexy Girl Ki Gaand Chudai) Reviewed by Priyanka Sharma on 12:45 AM Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.