दूसरी शादी और गाँड़ चुदवाने की हवस (Doosri Shadi Aur Anal Sex Ki Hawas)

दूसरी शादी और गाँड़ चुदवाने की हवस(Doosri Shadi Aur Anal Sex Ki Hawas)

अपने अकेलेपन से तंग आकर आखिरकार मैंने फैसला कर ही लिया कि मैं रेनू से शादी कर लूंगा मैंने अभी तक यह बात किसी को बताई नहीं थी लेकिन मैं सोच रहा था कि क्या मुझे यह बात कपिल को बतानी चाहिए मैं बड़ी दुविधा में था। 

कपिल की शादी को अभी 6 माह ही हुए थे और मुझे लग रहा था कि यदि मैंने उससे इस बारे में बात की तो कहीं उसे बुरा ना लगे क्योंकि अब मेरी शादी की उमर नहीं थी मैं 55 वें वर्ष में पहुंच चुका था। मेरी पत्नी सुधा को मरे हुए 20 साल हो चुके हैं मैंने ही दोनों बच्चे की देखभाल का जिम्मा तब से खुद ही उठाया है लेकिन जब से मैं रेनू जी से मिला तब से मुझे लगा कि शायद हम दोनों को शादी कर लेनी चाहिए। 

मेरी उम्र काफी हो चुकी है और रेनू जी की उम्र मुझसे दो वर्ष ही छोटी है लेकिन हम दोनों के बीच वहीं जवानी का प्यार है जो आज से 30 वर्ष पूर्व मेरे दिल में सुधा के लिए था। मुझे मेरे अकेलेपन से तो छुटकारा मिल चुका था क्योंकि रेनू जी और मैं साथ में ही समय बिताया करते थे अब हम लोग एक दूसरे से फोन पर भी बातें किया करते थे।

मैं बैंक में मैनेजर हूं और रेनू जी स्कूल में अध्यापिका है रेणु जी के पति का डिवोर्स हो गया था इसलिए वह अपनी बेटी के साथ अलग रहती हैं उन्होंने भी समाज की बहुत प्रताड़ना झेली है लेकिन आज भी वह वैसे ही खड़ी हैं। रेनू जी के चेहरे पर हमेशा मुस्कान रहती है और हम दोनों एक दूसरे के साथ शादी करने को तैयार थे परंतु मुझे और रेनू जी को यही डर था कि कहीं हमारे बच्चों को इस बात से आपत्ति ना हो। 

उम्र के 55 वर्ष में पहुंचने के बाद मैं कपिल से यह बात कहता तो शायद उसे बुरा लगता है इसलिए मैंने उससे कुछ भी नहीं कहा और मैंने अपनी बेटी सौम्या से भी यह बात छुपाई। कुछ दिनों से मेरे हाव भाव थोड़ा अलग हो चुके थे और कपिल भी अपनी नौकरी से कुछ दिनों के लिए छुट्टी ले चुका था कपिल घर आया हुआ था। कपिल और उसकी पत्नी पुणे में रहते हैं हम लोग नागपुर में रहते हैं लेकिन कपिल ने जब मुझे देखा तो वह मुझे देख कर कहने लगा पापा आजकल आप कुछ ज्यादा ही खुश नजर आ रहे हैं ऐसी क्या बात है कि आप बड़े खुश नजर आ रहे हैं आपने अपने बाल भी डाई करवा लिए हैं।

मैंने कपिल से कहा नहीं बेटा ऐसा कुछ भी तो नहीं है मैं तो सिर्फ अपने काम में व्यस्त रहता हूं और तुम्हें तो मालूम ही है कि मैं इन सब चीजों के बारे में ज्यादा नहीं सोचता वह तो कुछ दिनों से मेरे दोस्त कह रहे थे कि तुम्हारे बाल कुछ ज्यादा ही सफेद हो गए हैं तुम बालों को काला करवा लो तो मुझे भी लगा कि मुझे अपने बालों को डाई करवा लेना चाहिए। 

उस दिन तो मैं कपिल के सवालों से बच गया था लेकिन एक बार कपिल ने मुझे और रेनू जी को साथ में देख लिया था और जब उसने मुझे और रेनू जी को साथ में देखा तो वह मुझसे पूछने लगा वह महिला कौन थी और आप उनके साथ किसी रेस्टोरेंट में बैठे हुए थे। मैंने कपिल से कहा वह हमारी पुरानी परिचित हैं काफी समय बाद मुझे मिली थी तो मैंने सोचा उनके साथ रेस्टोरेंट में बैठ जाता हूं और उनके साथ मैंने एक कप चाय का प्याला पी लिया तो उसमें भला मैंने क्या गलत कर दीया। 

कपिल को तो मैंने जैसे तैसे समझा लिया था क्योंकि कपिल मुझ से डरता है और वह मेरा बेटा भी तो है इसलिए वह मेरी बात चुपचाप सुनता रहा उसके बाद उसने मुझे कुछ नहीं कहा। मैं और रेनू जी एक दिन मिले तो मैंने रेनू जी से अपने रिलेशन के बारे में पूछा मैंने उन्हें कहा हमें क्या करना चाहिए मुझे तो हमेशा यह चिंता सताती रहती है कि यदि कपिल और सौम्या को इस बारे में पता चला तो वह मेरे बारे में क्या सोचेंगे इतने वर्षों तक मैंने उनकी देखभाल की है और अब कपिल की शादी भी हो चुकी है उसकी पत्नी भी मेरे बारे में क्या सोचेगी। 

रेनू जी ने मेरा हाथ पकड़ते हुए मुझे कहा देखिए सुजीत जी आप इतना सोचेंगे तो शायद कभी भी हम लोग एक दूसरे से शादी नहीं कर पाएंगे मुझे लगता है कि आपको बात तो करनी ही पड़ेगी तभी जाकर आगे कुछ हो पाएगा मैं चाहती हूं कि अब मैं आपके साथ ही रहूं। मेरे कुछ समझ में नहीं आ रहा था इसलिए मैंने अपनी बहन शांति से इस बारे में बात की मैंने जब शांति को रेनू जी के बारे में बताया तो वह मुझे कहने लगी भैया आप क्या बात कर रहे हैं इस उम्र में आपको प्यार हो गया है।

मैंने रेनू जी के बारे में शांति को सब कुछ बता दिया था शांति ने मुझे कहा कि ठीक है भैया मैं आपकी मदद करने के लिए तैयार हूं लेकिन बच्चों को समझा पाना मुश्किल होगा यह इतना आसान नहीं होने वाला है। मैंने शांति से कहा बहन तुम बिल्कुल ठीक कह रही हो बच्चों को समझा पाना इतना आसान होने वाला नहीं है लेकिन फिर भी हमें उनसे बात तो करनी ही पड़ेगी ना और मैं चाहता हूं कि तुम उनसे बात करो और उन्हें इस बारे में समझाओ ताकि वह लोग समझ सके की मैं क्या चाहता हूं। 

शांति मुझे कहने लगी आप मुझे एक बार रेनू जी से तो मिलवा दीजिए मैंने शांति को रेनू जी से मिलवा दिया वह दोनों जब एक दूसरे से मिले तो उन्हें बहुत अच्छा लगा। शांति कहने लगी भैया आप उनसे शादी कर लीजिए मैं आप लोगों की मदद करने को तैयार हूं। शांति अब हम दोनों की मदद करने के लिए तैयार थी और इसी के चलते शांति ने कपिल से बात की परन्तु वह कपिल को अच्छे से समझा नहीं पाई लेकिन कपिल को अब यह बात तो पता चल चुकी थी। 

जब कपिल को यह बात मालूम पड़ी तो कपिल मुझे कहने लगा पिता जी आपने एक बार हमसे कह दिया होता कि आप रेनू जी से प्यार करते हैं तो हम कौन सा आपको उनसे शादी करने से रोक रहे थे और मुझे नहीं लगता कि आपने कुछ गलत किया है आप के अकेलेपन को यदि उन्होंने दूर किया है तो मैं समझ सकता हूं कि आप के दिल में उनके लिए कितनी इज्जत होगी।

मुझे इस बात की बहुत खुशी हुई की कपिल ने हम दोनों के रिश्ते को स्वीकार कर लिया था और मुझे कभी उम्मीद भी नहीं थी कि कपिल हम दोनों के रिश्ते को स्वीकार कर पाएगा। मेरे दोनों बच्चों ने हमारे रिश्ते को स्वीकार कर लिया था और उन्होंने जब रेनू जी के सामने मेरी शादी का प्रस्ताव रखा तो सब लोग जैसे चौक गए थे। हमारे जितने रिश्तेदारों को यह बात पता चली तो सब लोग यह सुनकर दंग रह गए। 
दूसरी शादी और गाँड़ चुदवाने की हवस (Doosri Shadi Aur Anal Sex Ki Hawas)
दूसरी शादी और गाँड़ चुदवाने की हवस (Doosri Shadi Aur Anal Sex Ki Hawas)
मैं अब शादी करने जा रहा था और यह मेरी और रेनू जी की दूसरी शादी होने वाली थी हम दोनों बहुत खुश थे की हम दोनों विवाह के बंधन में बंध गए। मुझे ऐसा लगा कि जैसे मैंने दोबारा से अपना नया जीवन शुरु कर लिया हो। जब मेरी शादी रेनू जी से हुई तो ऐसा लगा मानो दोबारा से वहीं पुराने दिन जीवन में लौट आए हो और जीवन में वही पुराने रंग भर गए हो। मुझे बहुत अच्छा लग रहा था क्योंकि रेनू जी का साथ मुझे मिल चुका था और उसी के चलते मैंने रेनू जी के साथ जब अपनी सुहागरात की पहली रात मनाई तो मुझे बड़ा अच्छा लगा। 

मैंने रेनू जी के होठों को चूसना शुरू किया अब भी उनमे वही रस बचा हुआ था जो कि पहले था। मुझे उनके होठों को चूमने में बड़ा अच्छा लग रहा था काफी देर तक मैं उनके होठों को चूसता रहा लेकिन जैसे ही मैंने अपने मोटे लंड को बाहर निकाला तो रेनू जी ने उसे अपने मुंह के अंदर समा लिया। वह मेरे लंड को अपने मुंह के अंदर तक ले चुकी थी। अब उन्हें बड़ा मजा आ रहा था और मुझे भी बड़ा आनंद आ रहा था काफी देर तक तो मैं अपने लंड को उनके मुंह के अंदर बाहर करता। मेरा लंड पूरी तरीके से तन कर खड़ा हो चुका था मेरे अंदर भी अब उत्तेजना जागने लगी थी और वह भी बढने लगी थी।

वह इतनी ज्यादा तड़पने लगी कि मैंने जैसे ही अपने लंड को उनकी योनि पर लगाया तो उनकी चूत से गीलापन बाहर निकाल रहा था। उन्हें बड़ा अच्छा लगता मैंने अपने लंड को धक्का देते हुए उनकी योनि के अंदर डाला। रेनू जी को मै धक्के दिए जा रहा था और मुझे बड़ा मजा आता उनकी चूत से गिलापन बहार निकल रहा था। वह मुझे कहने लगी मजा आ रहा है इतना मजा तो पता नहीं कितने सालों बाद आया था। 

हम दोनों ही अपनी रात को रंगीन बनाना चाहते थे और मैंने काफी देर तक रेनू जी की चूत के अंदर बाहर अपने लंड को किया। जब मेरे लंड से कुछ ज्यादा ही पानी बाहर निकलने लगा तो मुझे लगा कि मेरा लंड छिलने लगा था। मैं शायद उनकी चूत की गर्मी को ना झेल पाया और मेरा वीर्य गिर गया। जैसे ही मेरा वीर्य गिरा तो मैंने रेनू जी को कहा कि लगता है मेरा वीर्य गिर चुका है। मैंने अब उनकी योनि से अपने लंड को बाहर निकाला तो मैंने अपने लंड पर तेल की मालिश की और मेरा लंड दोबारा की तरह खड़ा हो गया। जैसे ही मेरा लंड खड़ा हुआ तो मैंने अपने लंड को रेनू जी की गांड पर सटाते हुए अंदर की तरफ धक्का दिया तो वह मुझे कहने लगी मुझे बड़ा दर्द हो रहा है।

अपने जीवन में पहली बार मैं गांड मरवा रही हूं और जिस प्रकार से मै उनकी गांड मार रहा था उससे मुझे अच्छा लग रहा था वह भी बहुत खुश थी। जब वह अपनी गांड को मुझसे टकराती तो मेरे अंदर बेचैनी सी जाग उठती और मुझे बड़ा मजा आता। काफी देर तक उनकी गांड का मजा लेने के बाद मेरा वीर्य बाहर की तरफ गिरने लगा था। मैंने रेनू जी से कहा मेरा वीर्य बाहर निकलने वाला है तो वह कहने लगी कोई बात नहीं आप मेरी गांड में गिरा दीजिए।  मैंने अपने लंड को उनकी गांड से बड़ी तेजी से टकराना शुरू किया मेरा लंड उनकी गांड के अंदर बाहर बड़ी तेजी से हो रहा था। 

जब मेरा लंड उनकी योनि के अंदर बाहर होता तो वह भी खुश हो जाती और उनकी चूतडे बहुत बड़ी थी  उन्हें पकड़ने में मुझे बड़ा मजा आ रहा था। जब मेरा वीर्य बाहर की तरफ गिरा तो वह कहने लगी लगता है आपने मेरी गांड को रंगीन कर दिया है। मैंने उन्हें कहा हां मुझे भी ऐसा ही लगता है। मैंने अपने लंड को बाहर निकाल लिया उन्हें मैंने अपने बगल में बैठा लिया हम दोनों आपस में बात करते रहे।
दूसरी शादी और गाँड़ चुदवाने की हवस (Doosri Shadi Aur Anal Sex Ki Hawas) दूसरी शादी और गाँड़ चुदवाने की हवस (Doosri Shadi Aur Anal Sex Ki Hawas) Reviewed by Priyanka Sharma on 9:47 PM Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.