चूत बेच के कमाई की शुरुआत (Choot Bech Ke Kamai Ki Shuruaat)

चूत बेच के कमाई की शुरुआत
(Choot Bech Ke Kamai Ki Shuruaat)

दोस्तो नमस्कार.. मैं नेहा फिर से आप लोगों के सामने कामवासना से भरी एक सच्ची उत्तेजक घटना लेकर आ रही हूँ.. और मेरे पहले की कामुक कहानियाँ पसन्द करने के लिए मेरे प्रिय पाठकों को धन्यवाद। मैं आज जो कहानी आपके सामने ला रही हूँ.. वो पॉश कालोनी की सच्चाई पर आधारित है।

यह कहानी मेरी सहेली साक्षी की है जो हॉस्टल में रह कर एमबीए की स्टडी कर रही थी.. वो मूलतः पूर्वी उ.प्र. के एक गाँव की रहने वाली है। उसका परिवार आर्थिक रूप से बहुत कमजोर है.. पर उसमें पढ़ाई के लिए बहुत अधिक जज़्बा है.. तो उसके लिए उसने नोएडा में एमबीए के लिए एक कॉलेज में एड्मिशन ले लिया है।

हालांकि उसे स्कॉलरशिप मिलती है पर वो पूरी नहीं आती है.. बीच में सरकारी लोग उसे खा जाते हैं.. जिसके कारण कुछ ही भाग उसके पास पहुँच पाता है.. जो उसकी जरूरत को पूरा नहीं कर पाता.. पर वो अपने घर से भी पैसे नहीं माँग सकती.. क्योंकि उसके घर वाले तो बहुत निर्धन हैं।

अपनी इसी आर्थिक तंगी को दूर करने के लिए साक्षी ने एक रास्ता अपनाया.. जिसके बारे में सेक्स स्टोरी के रूप मैं आपको बता रही हूँ।

उसकी मुलाकात ऐसी लड़कियों से हुई जो वहाँ पर लोगों का मन बहलाकर पैसा कमाती थी.. पैसे की कमी ने उससे भी यही करा डाला। दोस्तो, वो एक पॉश कालोनी थी.. जिसमें एक औरत गर्म गोश्त यानि बदन बेचने का चलाती थी.. वहाँ पर पैसा कमाने कॉलेज गर्ल्स आती थी.. जिनके साथ हर उम्र के लोग शारीरिक सम्बन्ध बना कर अपनी सेक्स की जरूरत को पूरा करते थे।

साथियो.. वहाँ पर अधिकतर उम्रदराज लोग ही आते थे.. उनकी उम्र 45 से 65 साल तक की होती थी.. ये ऐसे लोग होते थे.. हिनको जवान लड़कियों के साथ सेक्स का चस्का था या जिनकी पत्नियों की मौत हो गई होती थी.. या उनकी वाइफ उनको खुश नहीं कर पाती थीं.. या उनकी वाइफ उनसे साथ सेक्स नहीं कर पाती थीं।

मेरी सहेली साक्षी को एक लड़की.. जिसका नाम आकांक्षा था.. उस जगह पर ले गई.. जो पहले से खुद भी वहाँ पर ये सब करती है। साक्षी को उस चकला घर की औरत के पास ले जाया गया.. जो इस ग्रुप की हेड थी।

उसने साक्षी से कहा- आज शाम को 7 बजे तक मेकअप वगैरह करके तैयार हो कर आ जाना। मैं तुम्हें कस्टमर को दिखा दूँगी.. वहीं रेट भी डिसाइड हो जायगा।

साक्षी शाम को तैयार हो वहाँ पहुँची.. वहाँ पर उस औरत ने साक्षी को एक 54-55 साल के एक आदमी के सामने पेश किया।

दोस्तो, मेरी सहेली साक्षी की उम्र 21 साल है.. साक्षी को देखकर उसने ‘हाँ’ कर दी और पूरी रात का वो आदमी 3000 रूपए देने तो तैयार हो गया।

यह सुन कर साक्षी ने मना कर दिया वो औरत समझाने लग गई कि इतने भी बहुत है.. यहाँ पर तुम जैसी लड़कियों के 2000 रूपए ही मिलते हैं.. ये तो 3000 दे रहे हैं।

पर बाद में उस आदमी ने साक्षी की जवानी के दाम 5000 रूपए लगाए.. साक्षी वहाँ से जाने लगी, उसे इतने पैसे सही नहीं लगे।
फिर उस आदमी ने सीधा 10000 रूपए बोला.. तो साक्षी ने ‘हाँ’ कर दी।
पर उस अधेड़ उम्र के आदमी ने कहा- मैं 10000 रूपए पूरे वसूल करूँगा.. और सुबह 6 बजे जाने दूँगा।

सौदा डन हो गया.. जिसमें से 4000 रूपए उसे एड्वान्स दिए और बाकी 6000 काम होने के बाद मिलना थे।

आगे की कहानी मेरी सहेली की जुबाँ से:

वो आदमी जो मुझे लेने आया था.. उसका नाम रमेश नायक था, वह कस्टम डिपार्टमेंट में एक ऑफिसर था.. उसकी उम्र 54 साल की थी.. उसका जिस्म हल्का सा मोटा था.. और पेट बहुत बाहर निकला हुआ था।

वो मुझे अपनी कार में बिठा कर एक कॉलोनी में ले गया.. जहाँ ज़्यादा घर नहीं थे और बहुत सुनसान सी कालोनी थी। उसने एक घर के सामने गाड़ी रोकी और कहा- यह मेरे दोस्त के मकान है.. आज रात हम यहीं रुकेंगे।

मैं सहम गई.. मुझे डर लग रहा था.. हालांकि मेरी चूत की सील पहले से ही खुल चुकी थी.. मेरे बॉयफ्रेंड ने चोद कर खोल दी थी।

वो आदमी मेरा हाथ पकड़ कर मुझे घर में ले गया और मुझे ड्रॉइंग रूम में ले जाकर बैठा दिया।
मैं घबरा रही थी.. उन्होंने मेरे से कहा- अगर तुम ऐसे करोगी.. तो हम रात को कैसे एंजाय कर पाएंगे।

थोड़ी देर बाद वो अन्दर से ड्रिंक की बोतल ले आया.. मैंने मना किया।
‘मैं नहीं पीऊँगी..’

पर उन्होंने कहा- एक तो मैं आपको 10000 रूपए दे रहा हूँ.. और आप मना कर रही हो.. मुझे भी तो मज़ा आना चाहिए न..

फिर मुझे ना चाहते हुए भी सब कुछ करना पड़ा.. मैंने भी शराब पीना शुरू की.. मुझे वो आदमी एक अच्छा इंसान लगा।
उसने मेरे से मीठी-मीठी बातें की.. और करीब 2 गिलास दारू पीने के बाद मैंने और पीने से मना कर दिया..
उन्होंने तब भी एक गिलास और मुझे पिला दिया।

अब वो उधर कोने में रखी टीवी के पास गया.. उसमें डीवीडी भी लगा हुआ था उसे ऑन किया और उसमें एक इंग्लिश ब्लू-फिल्म लगा दी। उसमें चुदाई चल रही थी।
वो मेरे पास आकर बैठ गया और फिल्म देखने लगा.. साथ ही अपना लौड़ा निकाल कर मुठ मारने लगा।

फिर उसने मुझे अपने पास खींच लिया.. मेरे चूचे उसने मसले.. जैसे ही मेरे मम्मों को उसने छुआ.. मानो मेरे जिस्म में बिजली का करंट सा लगा हो.. उसने मुझे अपनी ओर लेकर मुझे चुम्बन किया और कहा- आजा मेरे जान..

अब वो मेरे होंठों पर चुम्मियाँ कर रहा था साथ ही मेरे मम्मों को भी दबा रहा था। मेरे चूतड़ों में भी उंगली करने के लिए उसने मेरी जींस में हाथ घुसाने की कोशिश की पर चुस्त जींस होने के कारण उसका हाथ अन्दर नहीं जा पाया.. तो उसने मेरी जिप खोल दी और पीछे से हाथ घुसा कर मेरे चूतड़ सहलाने लगा।

थोड़ी देर बाद वो सोफे से उठा और अपने सारे कपड़े उतार कर नंगा हो गया, मुझे शरम आने लगी। वो पूरा नंगा था.. पर उसका लंड बहुत ही छोटा था..
अब उसने मुझे खींचा और पहले मेरे टॉप.. फिर जींस को उतार फेंका। फिर एक ही झटके में ब्रा उतार दी और पैन्टी को पैरों के नीचे ला दी.. जो मैंने खुद उतार दी।

अब हम दोनों पूरे नंगे थे.. वो और मैं दोनों सोफे पर बैठ गए और ब्लू-फिल्म देखने लगे।
वो अब मेरी चूत में उंगली कर रहा था.. मुझे भी मदहोशी आ रही थी।
चूत बेच के कमाई की शुरुआत (Choot Bech Ke Kamai Ki Shuruaat)
चूत बेच के कमाई की शुरुआत (Choot Bech Ke Kamai Ki Shuruaat)
वो फिर उठा और अपनी पैंट की जेब से एक गोली निकाली.. उसने वो खा ली और मेरे पास आकर आँख मारते हुए कहने लगा- अब मुझे ये मेडीसिन लेना पड़ती है.. क्योंकि अब मेरे उम्र हो गई है न..

उसने मेरे से कहा- आओ मेरी जान.. हल्के हाथ से मेरा लंड सहलाओ।
मैं ब्लू-फिल्म देख रही थी.. साथ ही उसका लौड़ा भी सहला भी रही थी।

कुछ पलों बाद उसने टीवी बंद कर दिया और मेरे से कहा- देखो मैं चोदते समय गाली भी दूँगा.. पर तुम बुरा मत मानना..
मैंने न चाहते हुए भी गर्दन हिला दी।
वो मुझे बेडरूम में ले गया।

दोस्तो, अब मैं भी नशे में झूम रही थी।
उसने मुझे बिस्तर पर बैठाया और कहा- ले चूस.. मेरा हथियार।
उसका लंड बहुत ही छोटा था.. तो मैंने उसके लौड़े के टोपे की आगे की खाल हटाकर जब उसे चूसा।

काफ़ी देर चूसने के बाद उसके हथियार का साइज़ बढ़ने लगा.. पर तब भी वो ज़्यादा बड़ा नहीं हुआ.. करीब 4.5 इंच तक ही हुआ था.. पर हार्ड पूरा था।
अब उसने मुझे बिस्तर पर लेटा दिया और कहा- खोल साली अपनी टाँगें..

मैंने अपनी टाँगें खोल दीं.. वो अपना मुँह लेकर मेरी चूत में घुस गया, वो जीभ से चूत को चाटने लगा.. थोड़ी देर में मुझे भी मज़ा आने लगा।

फिर वो मेरी चूत के होंठों को खोल कर मेरी चूत का लाल दाना चूसने लगा। मुझे बहुत मज़ा आ रहा था। वो बिस्तर पर आ गया.. और मेरे साथ 69 की कंडीशन में लेट गया। मेरे मुँह में उसका लंड और उसके मुँह में मेरी चूत थी।

मेरी चूत भी पानी छोड़ रही थी। मैंने यह महसूस किया कि उसका लंड भी कुछ बड़ा हो गया था।
ये सब करते हुए काफ़ी देर हो गई थी.. अब बारी थी चुदाई की।
यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !

उसका लंड ज़्यादा बड़ा तो नहीं था.. लेकिन तब भी 5 इंच तक का हो गया था। उसने मुझे सीधा लेटाया.. और अपने हाथ से लंड को पकड़ कर मेरी चूत में फिट कर दिया.. और एक जोरदार धक्का मारा.. लंड मेरी चूत को चीरता हुआ हुआ अन्दर चला गया.. मुझे दर्द भी हुआ और मैं चिल्लाई भी.. पर उसको कोई असर नहीं हुआ।

फिर उसने मेरी चूत में धक्के मारने शुरू किए.. पहले तो मैं सिसकारी ले रही थी ‘सस्स्स्स साआआ हम्म अहह..’
लेकिन बाद में मैंने उसके हथियार को अपनी चूत में एड्जस्ट कर लिया था। उसने बिना रुके कम से कम 40 धक्के मेरी चूत में मारे और झड़ गया.. पर मेरा अभी डिसचार्ज नहीं हुआ था।
वो समझ गया था कि मैं अभी तक नहीं झड़ी हूँ।

वो उठा उसने अपना लंड मुझे फिर चुसाया और जब लौड़ा दोबारा खड़ा हुआ तो मेरी चूत में फिर से पेल दिया।
अब उसने फिर मुझे ठोका.. इस बार वो और मेरी चूत दोनों ही झड़ गए। देर तक चुदाई होने के कारण मेरी भी सांस फूल रही थी और उसकी भी..

मैं बिस्तर से उठ कर टॉयलेट गई और सूसू करके वापस बाहर आई।
वो अभी तक बिस्तर पर ही पड़ा था.. वो भी उठ कर टॉयलेट गया।

टॉयलेट से आकर उसने मुझे सीधा बिस्तर पर लेटाया.. मेरा पूरा बदन चूसने लगा.. और कहने लगा- क्या करूँ जान उम्र का तकाजा है.. नहीं तो अब तक तुझे चोद-चोद कर तेरी जान हलक में ला देता।

फिर काफ़ी देर बाद उसने अपना लंड मेरे मुँह में दे दिया और चुसाने लगा.. पर उसका लंड जस का तस था।

इन सब कामों में रात के 2 बज गए थे.. वो फिर से ड्रॉइंग रूम में गया और वहाँ से इस बार कोई स्प्रे लेकर आया और अपने लंड पर उसने 3 बार स्प्रे किया.. जिससे उसके लौड़े का साइज़ बड़ा हो गया।

अब उसने फिर से मुझे अपना लंड मुँह में लेने को कहा.. पर मैंने मना कर दिया.. क्योंकि उसने लौड़े पर वो स्प्रे किया हुआ था।
मैं हाथ से मुठ मारने लगी.. अब उसने मुझे फिर से बिस्तर पर लिटा दिया और मेरे ऊपर चढ़ गया।
उसने मेरे पैर फैलाए और लौड़ा हाथ से पकड़ कर मेरी चूत में अन्दर पेल दिया.. और बिना रुके धक्के मारने लगा।

अब मुझे उसका लंड मोटा महसूस हो रहा था.. पर अचानक ही उसने लौड़े को बाहर निकाल लिया.. और कहा- थोड़ा मुठ मारो..
मैंने मुठ्ठ मारी..
उसने मुझसे कहा- चल अब डॉगी स्टाइल में बन जा..

मैं कुतिया बन गई.. अब उसने मेरी चूत के अन्दर लौड़ा पेला.. तो मुझे दर्द हुआ.. पर वो मेरे दर्द की चिंता किए बिना.. मेरी चूत के अन्दर धक्के मारने लगा।
इस बार मुझे तकलीफ़ हो रही थी.. क्योंकि उसका लौड़ा अन्दर तक हमला कर रहा था।
मैं दर्द से कराह रही थी- आआआह हाअहहुउऊ.. उउऊ ऊऊऊ ऊह..

उसने कहा- मेरी रानी.. अब दिखाऊँगा तुझे अपना दम..
कुछ देर बाद उसने मुझे सीधा लेटा दिया और मेरे ऊपर चढ़ कर दबादब मुझे ठोकने लगा।

मैं दर्द से कराहते हुए कह रही थी- बस अंकल.. बस करो..
पर वो मुझे चोदे जा रहा था। इस दौरान मैं दो बार डिसचार्ज हुई।

काफ़ी देर बाद वो मेरे ऊपर से उठा.. और कहने लगा- अब हो गए मेरे पैसे वसूल..
मैं टाँगें चौड़ी किए ऐसे ही पड़ी थी।

फिर हम दोनों ने करीब एक घन्टे तक रेस्ट किया.. मुझे तो नींद सी आ गई थी।
वो मेरे पास आया.. और कहा- कैसा लगा मेरा हथियार..
मैं नींद में थी.. मैंने मुस्कुरा कर कहा- अच्छा है।

वो सीधे बिस्तर पर लेट गया और कहा- तू मेरे ऊपर आ जा..
मुझे नींद आ रही थी.. पर क्या करती.. करना तो था ही.. 10000 रूपए जो लिए थे।

अब मैंने सोचा कि डेढ़ घण्टा रह गया है.. कर ले और मनमानी।
इस बार मैं उसके ऊपर थी.. मैं खुद अपनी चूत में धक्के ले रही थी। इस बार मैं चुदाई करवा तो रही थी.. पर मेरा मन नहीं था।

उसने खुद मुझे अपनी बाँहों में जकड़ा और धक्के मारने लगा। इस बार भी पहले ही मेरी चूत ने पानी छोड़ दिया था और वो मुझे पेलता रहा था।
करीब 5 मिनट बाद वो भी झड़ गया।

मैं निढाल हो कर बिस्तर पर ही गिर गई। करीब सुबह के 6 बज रहे थे मेरी आंख खुली.. तो हम दोनों बिस्तर पर नंगे ही पड़े थे।
मैं उठी.. फ्रेश हुई और मैं बाथरूम में जाकर नहाई और वही कपड़े पहन लिए जो ड्रॉइंग रूम में पड़े थे।

अब मैंने उसे उठाया और हम दोनों ने चाय पी.. हालांकि 30 मिनट ज्यादा हो गए थे.. मैंने बाकी के 6000 रूपए लिए और उसने मुझे किस किया।
उसने अपना कार्ड दिया और कहा- मुझे तुम्हारे साथ बड़ा मज़ा आया, तुम अब पर्सनली आना.. किसी के थ्रू नहीं.. मैं तुम्हें मुंह मांगे पैसे दूँगा।
हमने फिर आपस में लिप किस किया.. वो मुझे मेरे हॉस्टल के पास तक छोड़ कर आया।

ऐसे हुई मेरी चुदाई की कमाई की शुरुआत! और साथ में कामवासना का इलाज!
चूत बेच के कमाई की शुरुआत (Choot Bech Ke Kamai Ki Shuruaat) चूत बेच के कमाई की शुरुआत (Choot Bech Ke Kamai Ki Shuruaat) Reviewed by Priyanka Sharma on 1:21 PM Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.