बहन बनी सेक्स की पुजारिन-5 (Bahen Bani Sex Ki Pujarin-5)

बहन बनी सेक्स की पुजारिन-5
(Bahen Bani Sex Ki Pujarin-5)

दोस्तो, मेरी इस सेक्स कहानी बहन बनी सेक्स की पुजारिन-4 (Bahen Bani Sex Ki Pujarin-4) को आप लोगों का बहुत प्यार मिला. मैं फिर से आपका सबका धन्यवाद करना चाहता हूँ और नए अंक के प्रकाशन में देरी के लिए क्षमा चाहता हूँ.

कहानी थोड़ी लंबी हो रही है क्योंकि मैं हूबहू जिए घटित हुए वैसे ही दृश्यों का वर्णन कर रहा हूँ. बहुत सारे मेरे मित्रों ने मुझसे पूछा है कि ये कहानी सच्ची है या नहीं. मैं आप सबको बताना चाहता हूँ कि यह कहानी बिल्कुल सत्य घटना है, कोई मनघड़न्त बकचोदी नहीं है.

अब तक आप लोगों ने पढ़ा था कि कैसे मैंने अपनी बहन को सिनेमा हॉल में नीचे से नंगी कर दिया. सड़क पे मैंने उसकी ब्रा भी निकालवा ली. उसे नंगी लेकर ही मैं उसी बिल्डिंग में घूम रहा था. मैंने उसके लिए सरप्राईज प्लान किया था.

अब आगे:

मैं उसके जिस्म को निहार रहा था. मोमबत्ती की पीली रोशनी में उसका गोरा चिकना बदन चमक रहा था. उसकी चूचियां तनी हुई थीं. उसकी सांसें थोड़ी तेज थीं. जब वो सांस लेती, तो उसकी चूचियां कामुक अंदाज में ऊपर नीचे होने लगतीं. वो सर झुकाए खड़ी थी, मैं घूम कर उसके जिस्म की पैमाइश कर रहा था. फिर मैं पीछे आया और उसकी गांड पे हाथ फेरते हुए मैंने उसके चूतड़ पर एक जोर की चपत लगा दी. फिर लगातार मैं कई चपत उसके चूतड़ों पर लगाता चला गया. चपत लगने से उसके चूतड़ बड़े ही कामुक अंदाज में हिल रहे थे. चपत लगते ही उनपे लाल निशान पड़ जाते, जो कि धीरे धीरे गायब हो गए.

मेरे अचानक इन वारों से वो एक स्टेप आगे को आ गयी और ‘उम्मम्म ईस्स..’ की आवाज से कसमसा उठी.

मैंने पीछे से उसके बाल पकड़ कर खींचा, जिससे उसका सिर ऊपर को हो गया. मैंने उसके हाथ फिर से ऊपर कर दिए. मैंने उसके हाथ ऊपर करके नीचे आने लगा. मैं हाथ उसके जिस्म पे फेरते हुए नीचे आ रहा था. मैं उसकी कोहनियों से होते हुए उसकी दोनों बांहों पे हाथ फेरते हुए नीचे आ रहा था. उसकी त्वचा एकदम मुलायम मख़मल जैसी थी.

सच कहूँ तो आज से पहले कभी मैंने उसे ऐसे टच किया ही नहीं था. मेरा हाथ सरकता हुआ उसकी बांहों से नीचे की तरफ आ रहा था. मैं हाथ आगे की तरफ उसकी बगलों के नीचे से आगे बोबों की तरफ ले गया. मैंने उसके बोबों पे हल्के से हाथ फिरा रहा था. वो आंखें बंद किये हुए मीठी आहें भर रही थी. वो वासना भरे मेरे स्पर्श का मजा ले रही थी. मैंने एक ही झटके में उसके बोबों को दबोच लिया. उसके चूचुक मेरी उंगलियों के बीच दबा दिए. मैंने उसकी बाकी चूचियां हथेली से दबी हुई थीं.

मेरे अचानक हुए इस हमले की उसको अंदाजा ही नहीं था. उसे दर्द हुआ था … और दर्द उसके चेहरे पे साफ दिख सकता था. वो बेरहमी से दूध मसले जाने के दर्द से सिहर उठी थी. उसके मुँह से ‘आहह आहह आ ओहह..’ की आवाजें निकल पड़ीं.

इस दर्द को मैं उसके चेहरे पे पढ़ सकता था. कुछ पलों में वो सामान्य हुई. लेकिन मैंने उसे सामान्य होने का मौका ही नहीं दिया. मैंने उसके चूचुकों को दोबारा अपनी उंगलियों के बीच फिर से दबा दिया. वो फिर से दर्द से बिलबिला उठी. उसके मुँह से ‘आहह … आह …’ की दर्द भरी आवाजें निकल पड़ीं. वो सर ऊपर करके अपनी नंगी पीठ और चूतड़ों को मेरी तरफ धंसा रही थी.

इधर एक बात ध्यान देने योग्य थी कि उसे असहनीय पीड़ा हुई लेकिन उसने मुझे रुकने को नहीं कहा. वो बस आंख मूंदे उस दर्द का भी आनन्द ले रही थी. मैंने दांत से उसके कंधे पे काट के किस किया. जिससे उसके मुख से दर्द भरी कामुक आवाज निकल गई ‘इईस्स … उम्म्ह… अहह… हय… याह… ओह.’

मैं उसके बालों को पकड़ कर खींच ले गया और उसे ले जाकर डाइनिंग टेबल पे पटक दिया. उसके गिरते ही मैं खुद उसके ऊपर चढ़ गया. मेरे भार से वो मेज पर दबी थी. मैंने उसके दूसरे कंधे पे दांत से काट के किस किया और वैसे ही दांत से काटते हुए नीचे आने लगा.

अब मैं उसकी नंगी पीठ पर काटते चूमते हुए नीचे आ रहा था. मेरे काटने से उसके मखमली गोरे बदन पे मेरे दांतों के निशान पड़ जाते. वो बस मीठे दर्द से आनन्दित हो रही थी. वो आंखें बंद कर के ‘उम्म्म ईस्स … हम्म आह..’ की सिस्कारियां ले रही थी.

नीचे आते हुए मैं उसके चूतड़ों पर आ पहुंचा. मैंने उसके मस्त चूतड़ों को भी अपने दांतों से काट के खाने लगा. वो अपने दांतों से होंठों से कामुक अंदाज में भींचे हुए मेरे दांतों के लव बाइट के मजे ले रही थी. मैं उसके चूतड़ों को काटता हुआ चाटता जा रहा था. इससे उसके माथे पे हल्की सी सिकन भी नहीं थी. बल्कि उसके होंठों पर कामुक मुस्कान थी.

वो ‘ओह्ह … यस … हम्म …’ की आवाजें निकाल रही थी. मैंने नीचे देखा, तो उसकी चुत से उसका चूत रस बह के नीचे टांगों की तरफ जा रहा था. शायद अब तक वो गर्म हो के एक बार झड़ चुकी थी.

मैंने एक लंबी सांस ली और उसकी चुत की खुशबू को अपने ज़हन में उतार लिया. उसकी वो मादक खुशबू मुझे पागल कर रही थी. मेरा मन तो कर रहा था कि उसकी चुत में मुँह डाल के उसका रस चूस लूँ … खा लूँ, लेकिन मुझे उसे तड़पाना था. यही उसकी मर्जी भी थी.

मैंने मेज़ पर रखी उसकी पैंटी उठायी और चूत से रस पौंछने लगा. मैंने टांगों से लेकर चुत तक का सारा रस उसकी पैंटी से ही पौंछा. पैंटी उसके रस भीग गयी थी. फिर मैं उठा और उसी तरह उसकी पैंटी को उसके मुँह में ठूंस दिया. उसने मुँह खोल कर बड़े आराम से पैंटी को अपने मुँह में ले लिया. अभी भी वो इसी हालत में थी.

अब वो चुदने के लिए तैयार थी. मैंने उसे बाल पकड़ के ही उठाया और कमरे में ले गया. कमरा भी पूरी तरह से सजा हुआ था. कैंडल्स से रंग बिरंगी रोशनी वाले बल्बों से सजावट थी. मैंने उसे वहीं बांधा, जहां कल बांधा था. मैंने उसकी गर्दन पे किस किया और आंखों पे पट्टी बांध दी.

मैंने ध्यान दिया कि उसका मुँह वासना पूरी तरह लाल हो गया था. उसकी आंखों में नशा सा छाया हुआ था.

अपनी बहन के कानों पे मैंने किस किया और बोला- आर यू रेडी फोर होल नाइट फन? (क्या तुम पूरी रात मजे करने के लिए तैयार हो?)
उसने हामी में सर हिलाया.

मैंने उसे गाल पे किस किया और उसे वैसे छोड़ कर टेबल की तरफ बढ़ा, जहां वाइन की बॉटल रखी थी. आइस बकेट में आइस थी, वो बकेट ऊपर गुलाब से सजा हुआ था. मैंने एक ग्लास में वाइन डाली और आइस डाल कर उसके पास को बढ़ा. मैंने उसके मुँह से पैंटी निकाली और उसे वाइन पिलाने लगा. वो तो जैसे प्यासी थी, उसने झट से पूरा ग्लास खाली कर दिया.

मैंने उससे पूछा- डू यू वांट मोर? (और चाहिए?)
उसने नशीली आंखों से हां में सर हिलाया. मैंने ग्लास को वाइन से फिर से भरा और उसे पिलाने लगा. वो दूसरा ग्लास भी पी गयी.
मैंने तीसरी बार गिलास भर लिया और पूछा- और?

इस बार मैं आश्चर्य चकित था. उसने हां में सर हिलाया.

मैं ग्लास उसके मुँह के पास ले गया, वो पीने के लिए मुँह आगे करने लगी. मैंने वापस खींच लिया. उसने नाराज होने जैसा चेहरा बना लिया.
मैंने उससे बोला- ना … ना … ऐसे नहीं.

मैंने वाइन की एक सिप ली और उसके होंठों पे होंठों को रख दिया. उसके होंठ चूसते हुए मैंने वाईन को उसके मुँह में उड़ेल दिया. मुस्कुराते हुए वो गटक गयी. मैं उसके होंठों को चूसते हुए अलग हुआ.

इसी तरह मैंने वाइन उसे फिर से पिलाई और उसके होंठों पे फिर होंठों रख दिए. उसने वाइन मेरे मुँह में उढ़ेल दिया. मैं उसके होंठों को चूमते हुए पी गया.

कुछ देर ऐसा करने के बाद मैंने उसके गाल पकड़ के दबाये और पूरा मुँह खोल के ऊपर कर दिया. फिर पूरी बोतल उठा के उसे पिलाने लगा. वो वाइन को इस तरह से पीने को मजबूर थी. उसका मुँह मैंने जबरदस्ती खोल रखा था. मैं वाइन उसके मुँह में डाल रहा था. वो जितना हो सके वाइन अन्दर गटकती जा रही थी. करीब आधी बोतल मैंने ऐसे ही खाली कर दी.

जब मैंने उसे छोड़ा, तब उसने आखिरी घूँट गटक कर चिहुँक के ऐसे सांस ली, जैसे उसकी जान में जान आयी हो. कुछ वाइन उसके चेहरे पे फैल गयी थी. मैंने उसके बाल पकड़ के खींचे, जिससे उसका चेहरा ऊपर को हो गया. उसके चेहरे से लग रहा था कि उसे मेरी इस हरकत का अंदाज नहीं था. मैंने उसके मुँह से गिरी वाईन, जोकि उसके गालों पर लग कर टपक रही थी, उसी अवस्था उसके गालों को चाटना शुरू कर दिया.

मैंने ऐसे ही चाट चाट कर सारी वाइन उसके चेहरे से साफ की. मुझे ऐसा प्रतीत हो रहा था, जैसे उसके होंठों से लग के वाइन और भी नशीली हो गयी थी. मैं उसके होंठों को चूसते हुए अलग हुआ. वो मेरा पूरा सहयोग कर रही थी. उसे इस तरह की सेक्स क्रियाओं में बड़ा मजा आता था.

प्रीति के शब्दों में:

पिछले कई घंटे से मेरा भाई मुझे अलग अलग तरीकों से उत्तेजित कर रहा था. पहले हॉल में, फिर सड़क पर, फिर यहां अपनी ही बिल्डिंग में मुझे नंगी घुमा रहा था. मैं अब इतनी गर्म हो चुकी थी कि अभी मुझे जिस मर्द का भी लंड मिले, मैं उससे चूत खोल कर चुद जाऊं.

मैं कब एक बार झड़ चुकी थी … ये भी मुझे याद नहीं था. मुझे जो हल्की थकान महसूस हो रही थी, वो भी वाइन के नशे से गायब हो चुकी थी. मैं उससे कहना चाहती थी कि बस कर भाई … अब अपनी रंडी बहन को चोद दे.

लेकिन मैंने खुद को रोका. मैंने लॉकेट की तरफ देखा और खुद को याद दिलाया कि मैं भाई की गुलाम हूँ. वास्तव में मैं आपको बताऊं कि नार्मल सेक्स तो मैंने बहुत बार किया है. लेकिन ऐसे उसकी की निजी रंडी बनके चुदने का मजा ही कुछ और था.

मेरे दोनों हाथ ऊपर बार से बंधे हुए थे. इस वक्त मैं पीटी करने वाली पोजीशन में बंधी थी. उसने मुझे ऐसे बांध रखा था कि मैं अपनी एड़ियों पे उचक कर असहाय सी खड़ी थी. मैं कुछ देख नहीं सकती थी, मेरी आंखों पे पट्टी थी. भले ही मैं देख नहीं पा रही थी. लेकिन हां मैं महसूस सब कुछ कर रही थी. मैं अपने सगे भाई के जूतों की आवाज को सुन सकती थी. मुझे महसूस हो रहा था कि वो मेरे चारों तरफ घूम के मेरे जिस्म की पैमाइश कर रहा था. उसे मुझे ऐसे घूरने में पता नहीं क्या मजा आता था. मेरे मन में तरह तरह की ख्याल उठ रहे थे कि पता नहीं अब मेरा भाई मेरे साथ क्या करेगा. मैं एक नए दर्द भरे रोमांच के लिए खुद को तैयार कर रही थी.

तभी अचानक जूतों की आवाज रुक गई. एक कामुक से अहसास से मेरी सांसें तेज हो गईं. मैं नहीं जानती थी कि अगले ही पल क्या होने वाला है. मेरे नंगे जिस्म में वासना की एक लहर सी दौड़ गयी.
बहन बनी सेक्स की पुजारिन-5 (Bahen Bani Sex Ki Pujarin-5)
बहन बनी सेक्स की पुजारिन-5 (Bahen Bani Sex Ki Pujarin-5)
मैं अपनी बहन के नंगे जिस्म को तरसा रहा था. मैं मन में सोच रहा था कि यह लड़की न जाने मुझे कैसे चोदने को मिल गई. आह … उसका गोरा जिस्म … कड़क उठे हुए चुचे, उन पे गुलाबी निपल्स, सपाट पेट, नंगी पीठ, गोरी बांहें, सुराही दार गर्दन, पतली कमर, उठे हुए चूतड़ और कसी हुई गांड. सब मिला के मुझे वो कामवासना की देवी लग रही थी.

उसके नंगे जिस्म को देख के इतनी उत्तेजना बरस रही थी कि कोई भी झड़ जाए. मेरे कदमों की आहट से वो अवगत थी. मेरे कदमों के आहट से उसकी सांसें तेज हो रही थीं. हर बार जब वो सांस लेती, तो उसके मम्मे ऊपर नीचे होने लगते. उसके मम्मों का इस तरह से उठाना गिरना, उस पूरे दृश्य को और भी कामुक बना रहे थे.

मैं एक पल के लिए रुका. मैंने ड्रावर खोला, जिसमें उसने सारे सेक्स के सामान रखे हुए थे. उसमें से मैंने कुछ सामान निकाला. उसे पास में स्टडी टेबल पे रखा … फिर वापस उसके पास आया.

अब मैं उसके नीचे आ गया. मैंने अपनी बहन के चूतड़ों पे किस किया. उसकी नंगी पीठ पे किस करते हुए ऊपर की तरफ बढ़ा. मैंने उसके लेफ्ट हाथ को खोला और उसे पुलअप मशीन के दूसरे बार से फैला कर बांध दिया. यही काम मैंने उसके पैरों के साथ किया. अब वो लगभग एक्स आकार में पिछली रात की तरह बंधी थी. वो नशे तथा वासना से लिप्त थी. उसे बस सेक्स दिख रहा था. मुझे याद है कि जब मैं उसके नंगी पीठ पे किस कर रहा था. वो किस तरह कामुक तरीके से दांते भींचे हुए मजे ले रही थी. मैंने सेक्स खिलौनों में से झाड़ूनुमा एक खिलौना लिया, जिसे ‘व्हिप’ कहते थे, उसे अपने हाथ में उठाया.

यह व्हिप नामक सामान एक झाड़ू जैसा खिलौना होता है. जो कि सॉफ्ट लेदर की रस्सियों का बना था. आगे यह रस्सियां खुले गुच्छे के रूप में खुली हुई होती हैं. पीछे ये सब गुंथ कर एक हैंडल सा बनाती हैं. इन सब चीजों से उसी ने मुझे अवगत कराया था. मैंने उस व्हिप को लिया और वापस उसके पास आया.

मैं अब घूम के फिर से उसकी हालत का मुयाअना करने लगा. उसका पूरा जिस्म स्थिर था. क्योंकि वो रस्सी से बंधी थी. बस मेरे कदमों की आहट पाकर उसकी सांसें फिर से तेज हो जाती थीं.

मैं घूमते हुए उसकी दायीं तरफ आया और व्हिप से उसके नंगे सपाट पेट पे दे मारा. वो ‘आ..’ की आवाज से चिहुंक उठी. उसकी सांसें एक सेकंड के लिए जैसे अटक सी गईं. हालांकि उसे दर्द हुआ होगा … लेकिन दर्द पे वासना हावी था. कुछ सेकंड में उसकी सांस में जान आयी. उसने लम्बी संतोष भरी हम्मम … की आवाज के साथ सांस छोड़ी.

मैंने उससे पूछा- हाव इज इट?(कैसा लगा)
वो सांसें सम्भालते हुए कांपती सी आवाज में बोली- ईट्स वंडरफुल मास्टर (ये बहुत ही अच्छा था)

मैंने दूसरी बार में व्हिप को सामने से उसके पेट वाले हिस्से पे मारा, वो फिर से चिहुंकी. सांसें उसकी फिर से अटक सी गईं. लेदर उसके जिस्म पे सटीक चिपक रहा था. स्लो मोशन में देखें, तो लेदर उसके नंगे स्किन पे सटाक से चिपकता और एक कम्पन के साथ वापिस आता. हर बार पे उसकी सांसें अटक सी जातीं.

मैंने उससे इस दूसरे वार के साथ बोला- से … वन्स मोर मास्टर … एंड बेग फॉर इट. (बोलो एक और मेरे मालिक, आग्रह करो मारने के लिए)
उसने कांपते हुए दर्द भरी आवाज में कहा- यस्स … प्लीजज … वन्स हम्म वन्स मोर्रर्र … मास्टर (हां मेरे मालिक, कृपया एक और लगाएं)
उसकी आवाज से जाहिर था कि उसे दर्द हो रहा था. लेकिन उसके चेहरे पे वासना के भाव थे.

मैं घूमते हुए उसकी बायीं तरफ आया और उसके नंगे सॉफ्ट चूतड़ों पे दे मारा. वो जोर से चिहुंकी.
‘आहह ईसस्सस … हम्म..’
‘से … अगेन..’ (फिर से कहो)
उसने एक झटके में जल्दी से बोला- वंस मोर मास्टर (एक और मास्टर).

मैंने उसके दूसरे चूतड़ पे मारा. वो दांत भींच कर दर्द से चिहुंक उठी.
‘आहह … उक्क..’
उसकी ‘आहह..’ दर्द से अटक के रह गयी. फिर एक पल बाद उसने ‘उम्मम्मम … ईस्स..’ की आवाज के साथ लंबी सांस छोड़ी.

मैं होंठों को दांत से चबाते हुए बड़े ही कामुक लहजे में बोला- फिर से बोलो.
‘उम्म्म यसस्स … वंस मोर मास्टर … हम्म आहह … (एक बार और)

उसके इस अंदाज से मेरे अन्दर वासना की लहर सी दौड़ गयी. वो किसी एक्सपर्ट रंडी की तरह बर्ताव कर रही थी. शायद यह वाइन के नशा का नतीजा था. वो दर्द को अपना चुकी थी और अब मेरे वार का मजा ले रही थी. साथ ही वो बड़बड़ा भी रही थी- उम्म्म … ओह … यस मास्टर … आई लाईक दैट … उम्म्मम … हम्मम … आहह … यस प्लीज मास्टर … वन्स मोर मास्टर ( एक और मेरे मालिक)

ऐसा करते हुए वो अपने चूतड़ बड़े कामुक अंदाज में हिलाते हुए दांतों से होंठों काटने लगी. वाइन के नशे ने उसे सड़कछाप रंडी बना दिया था.

उसके इस अंदाज से मैं भी गर्म हो गया और मैंने जोर से उसकी नंगी पीठ, उठे हुए नग्न चुचों, नंगे पेट, नंगी गांड (चूतड़), मखमली टांगों पे लगातार कई कोड़े बरसा डाले.
वो बस दर्द के मारे ‘आ आहह … ओह ओ ईईईई … ऊम्म..’ करके चीखती रही. वो कुतिया की तरह चिल्ला रही थी.
मैंने कोड़े बरसाना रोका. उसने सिसकते हुए सांस ली … वो रो रही थी. उसकी आंखों में आंसू थे. लेकिन चेहरे पे वही कामुक भाव थे. वो निढाल पड़ी सांसों पे काबू पाने की कोशिश कर रही थी. उसकी चीखें काफी तेज थीं. मुझे लगता था कि उसकी तेज आवाजें आसपास के नजदीक फ्लैट तक सुनाई पड़ी होंगी.

अब मैं रुक गया. मैं उसकी आंखों में आंसू नहीं देख सकता था. मैंने उससे पूछा- डू यू वांट इट स्लो डाउन (आराम से करना चाहती हो)
वो कुछ नहीं बोली, उसने बस न में सर हिलाया.
मैंने उससे बोला- वी कैन ड्राप इट … डू इट व्हेन यू वर रेडी (हम कभी बाद में कर सकते हैं जब तुम तैयार हो रहोगी.)

उसने गुस्से से मुझे देखा.

मैं अपने पूरे होशोहवास में था. लेकिन उस पर सेक्स का भूत सवार था. ऊपर से वाइन ने उसे और खोल दिया था. वो इस वाइल्ड सेक्स का पूरा मजा ले रही थी. हालांकि मैं उसके स्वभाव को जानता था. उसे रोका नहीं जा सकता. मैं ढीला पड़ा, तो वो नाराज हो जाएगी. फिर मुझे कई दिनों तक सेक्स करने को नहीं मिलेगा. यह वाइल्ड सेक्स ही तो उसकी इच्छा थी. उसने मेरे कई सेक्स इच्छाओं को पूरा किया था, आज मेरी बारी थी.
अगला भाग : बहन बनी सेक्स की पुजारिन-6 (Bahen Bani Sex Ki Pujarin-6)
बहन बनी सेक्स की पुजारिन-5 (Bahen Bani Sex Ki Pujarin-5) बहन बनी सेक्स की पुजारिन-5 (Bahen Bani Sex Ki Pujarin-5) Reviewed by Priyanka Sharma on 11:39 AM Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.