ऑफिस गर्ल की दमदार चुदाई (Office Girl Ki Damdaar Chudai)

ऑफिस गर्ल की दमदार चुदाई
(Office Girl Ki Damdaar Chudai)

अपने 15 वर्ष की मेहनत के बाद एक बड़ा मुकाम हासिल करना किसी सपने से कम ना था सब कुछ बड़ी तेजी से हुआ। मैंने अपने 15 वर्ष अपने बिजनेस में लगा दिए लेकिन मैं अपने परिवार को समय ना दे सका मेरे बच्चे बड़े होते जा रहे थे। मेरे लड़के की उम्र आज 10 वर्ष हो चुकी है लेकिन मुझे मालूम ही नहीं चला कि कब समय इतनी तेज गति से निकल गया। 

एक दिन जब मैं अपनी कार से घर लौट रहा था तो आगे से एक छोटा बच्चा पता नहीं कहां से आ गया और उसे बचाने के चलते मैंने गाड़ी के हैंडल घुमाया तो गाड़ी जाकर डिवाइडर से टकरा गई। मैं तो बेहोश हो चुका था लेकिन जब मुझे होश आया तो मैं अस्पताल में था और मेरे ऑफिस में काम करने वाले चंदन मेरे साथ थे जो कि मेरा सारा काम संभालते हैं। मेरी पत्नी और मेरे बच्चे भी वहीं पास में बैठे हुए थे मैं अच्छे से बात तो नहीं कर पा रहा था लेकिन उन लोगों को बहुत खुशी हुई कि मैं अब होश में आ चुका हूं।

मुझे कुछ याद नहीं था कि मैं कितने दिनों बाद होश में आया हूं मेरे सर में काफी दर्द हो रहा था मैंने जब अपने सर में हाथ लगाया तो मेरे सर में भी चोट आई हुई थी। धीरे धीरे मैं ठीक होता जा रहा था और जब मैं घर आ गया तो मेरी पत्नी ने मेरी बहुत देखभाल की मेरी पत्नी माधुरी मुझे बहुत प्यार करती है। 

माधुरी का साथ मेरे जीवन में नहीं होता तो शायद मैं कब का टूट चुका होता लेकिन माधुरी की वजह से ही मैं अपने जीवन में सफल हो पाया हूं। माधुरी मुझे कहने लगी आप तो अब पहले से बेहतर महसूस कर रहे होंगे मैंने माधुरी से कहा हां लेकिन उस छोटे बच्चे को बचाने के चलते मेरी गाड़ी डिवाइडर से जा टकराई और मैं बुरी तरीके से घायल हो गया था। 

माधुरी ने मुझे आगे की बात बताई और कहा मैं उस वक्त मम्मी के साथ बैठी हुई थी उस दिन मम्मी भी घर आई हुई थी। मैं मम्मी के साथ बात कर ही रही थी कि तभी मेरे फोन पर एक अनजान नंबर से कॉल आया और मैंने जब फोन उठाया तो वह व्यक्ति मुझे कहने लगा कि आपके पति का एक्सीडेंट हुआ है।

हम लोग सब तुम्हारे पास दौड़े चले आए लेकिन तुम बेहोश थे तुम्हें करीब अगले दिन शाम के वक्त होश आया मैंने माधुरी से कहा मैं इतनी बुरी तरीके से घायल हुआ था क्या। माधुरी कहने लगी तुम्हें बहुत ज्यादा चोट आई थी मैंने जब तुम्हें देखा था तो मैं घबरा गई थी मेरे हाथ पैर फूलने लगे थे लेकिन मैंने हिम्मत रखते हुए बच्चों को संभाला। ना जाने उस दिन ऐसा क्या हुआ कि मेरे साथ इतना बड़ा हादसा होते-होते टल गया मुझे चलने में थोड़ा परेशानी थी लेकिन अब मैं ठीक होने लगा था। 

मैं व्हीलचेयर पर ही बैठा रहता था क्योंकि डॉक्टर ने मुझे व्हील चेयर पर बैठने के लिए कहा था मेरा चल पाना अभी संभव नहीं था। मैंने माधुरी से कहा मुझे ऑफिस जाना है तो माधुरी कहने लगी आप ऑफिस जाकर क्या करेंगे चंदन जी हैं तो सही वह सारा काम संभाल लेंगे। मैंने माधुरी से कहा मेरा मन घर पर नहीं लग रहा है सोच रहा हूं कि ऑफिस चले जाऊं। माधुरी कहने लगी आप देख लीजिए वैसे तो मैं आपको यही सलाह दूंगी कि आप घर पर ही रहे लेकिन मैं कहां मानने वाला था आखिरकार मैं ऑफिस चला गया। 

ड्राइवर ने मुझे कार से उतारा और व्हीलचेयर पर अपनी मदद से बैठा दिया और मैं व्हील चेयर पर बैठ गया। सामने मेरे ऑफिस के सारे लोग मेरे स्वागत के लिए खड़े थे चंदन जी तो जैसे बड़े ही उत्सुक थे उन्होंने मुझे माला पहनाते हुए कहा सर ऑफिस में आपका स्वागत है। मैंने चंदन जी को मजाकिया अंदाज में कहा साहब क्या मैं पहली बार ऑफिस में आ रहा हूं। चंदन जी ने भी अपने मुस्कान को छुपाने की कोशिश की लेकिन उनकी हंसी बाहर छूट ही गयी और वह मुझे कहने लगे प्रदीप सर आप इतने समय बाद ऑफिस आ रहे हैं तो अच्छा तो लगेगा ही और यह किसी उत्सव से कम भी नहीं है। 

मैंने चंदन से कहा क्या भाई साहब आप तो मेरे आने पर बड़े खुश नजर आ रहे हैं वह कहने लगे चलिए सर वह मुझे व्हील चेयर से मेरे केबिन में लेकर गए। मैं अपने केबिन में बैठा था तो मैंने देखा मेरे केबिन की पूरी अच्छे से सफाई हुई थी और चंदन जी ने मुझे अपने कंधे का सहारा देते हुए मेरी कुर्सी पर बैठा दिया वह कहने लगे साहब आप इतने दिन बाद आ रहे हैं तो बहुत अच्छा लग रहा है आप पूरे स्टाफ से मिल लीजिए।

मैंने उन्हें कहा अभी रहने दीजिए थोड़ी देर बाद मिल लेता हूं मैं हमेशा की तरह अपने काम पर लग गया मैं काम में इतना खो गया कि मुझे पता ही नहीं चला कि कब घंटे बीत गए। चंदन जी मेरे पास आये और कहने लगे प्रदीप जी चलिए आपको कुछ नए लोगों से भी मिलवा ना है मैंने उन्हें कहा ठीक है। 

वह मुझे जब हमारे मीटिंग हॉल में ले गए तो वहां पर कुछ नए चेहरे मुझे दिखाई दिए मैं सब लोगों का एक एक कर के परिचय ले रहा था। उनमे से दो लोग मेरे पास आये और कहने लगे सर आपकी मेहनत के बलबूते हज आप यहां पर पहुंचे हैं लेकिन आपसे मिलकर बिल्कुल भी ऐसा नहीं लगा कि जैसे हम अपने बॉस से मिल रहे हैं आप बिल्कुल ही सामान्य और साधारण प्रवृत्ति के हैं। उन्हें मुझसे मिलकर बहुत खुशी हुई और सारा ही स्टाफ़ मुझसे हमेशा खुश रहता था मैं कभी भी किसी को काम को लेकर दबाव नहीं डालता था। 

उस दिन मैं अपने घर चला आया मुझे काफी अच्छा लग रहा था ऐसा लग रहा था जैसे कि मेरे अंदर दोबारा वही जोश आ गया है जो पहले काम के प्रति था क्योंकि मैं अपने काम के प्रति पूरी तरीके से समर्पित हूँ। मुझे घर पर बिल्कुल भी अच्छा नहीं लगता मैं अपने ऑफिस जाकर खुश था तो मेरी पत्नी माधुरी मुझे कहने लगी आज आप बड़े खुश नजर आ रहे हैं।

मैंने माधुरी को बताया काफी दिनों बाद ऑफिस जाना अच्छा रहा चंदन जी ने ऑफिस बड़े ही अच्छे तरीके से संभाल रखा है। चंदन जी से मेरी पहली बार मुलाकात तब हुई थी जब मैं जॉब करता था वहां पर मुझे उनके अंदर जो काबिलियत दिखी तो मैं उनका फैन हो गया और मैं चाहता था कि वह मेरे साथ ही काम करें। 

जब मैंने अपनी कंपनी की शुरुआत की थी उस वक्त से ही वह मेरे साथ जुड़े हुए हैं और आज 15 साल पूरे होने आए हैं लेकिन चंदन जी ने कभी भी मुझे कोई शिकायत का मौका नहीं दिया और हमेशा ही उन्होंने पूरी मेहनत के साथ काम किया है। अगले दिन भी मैं ऑफिस में गया तो मैंने देखा ऑफिस में नई रिसेप्शनिस्ट आई हुई थी मैंने चंदन जी से पूछा यह नई रिसेप्शनिस्ट कब आई। वह कहने लगे कि इसे आये तो 10 दिन हो चुके हैं मैंने उन्हें कहा जो पहले काम करती थी वह लड़की कहां चली गई। 

वह कहने लगे कि उसकी शादी हो चुकी है इसलिए मुझे नई लड़की ऑफिस में रखनी पड़ी मैंने कहा चलिए कोई बात नहीं। उस दिन भी मेरा ऑफिस में बहुत अच्छा समय बीता मैं शाम के वक्त घर लौट आया अब धीरे धीरे मैं ठीक होने लगा था। अब मैं पूरी तरीके से ठीक हो चुका था मेरे ऑफिस में एक नई लड़की आई हुई थी उसे देखकर मुझे मेरी पुरानी गर्लफ्रेंड की याद आ जाया करती थी। मेरे सामने मेरे बीते हुए पन्ने जैसे दोबारा से खुलने लगे थे उसका नाम संजना है। 

मै संजना के ऊपर कुछ ज्यादा ही मेहरबान होने लगा था वह भी अब मेरे इरादे समझने लगी थी तो आखिरकार उसने मुझसे कह दिया सर आप मुझ पर कुछ ज्यादा ही मेहरबान रहते हैं। मैंने उसे बताया कि हां मुझे तुम अच्छी लगती हो तुम बिलकुल मेरी गर्लफ्रेंड की तरह दिखती हो इसीलिए मैं तुम पर कुछ ज्यादा ही मेहरबान हूं।
ऑफिस गर्ल की दमदार चुदाई (Office Girl Ki Damdaar Chudai)
ऑफिस गर्ल की दमदार चुदाई (Office Girl Ki Damdaar Chudai)
वह भी अपने आपको मेरे पास आने से ना रोक सकी हालांकि वह बहुत ज्यादा जवान है लेकिन उसके बावजूद भी वह मेरे साथ शारीरिक संबंध बनाने के लिए तैयार हो गई। मेरे लिए तो यह खुशी की बात थी क्योंकि मैं छरहरे बदन की लड़की को चोदने वाला था। मै पूरी तरीके से ठीक हो चुका था मेरे पास जब संजना आती तो मैं उसे अपने पास बैठा लेता और उसे छू लिया करता वह भी खुश हो जाया करती थी आखिरकार एक दिन वह मुझे कहने लगी सर आप मुझे कभी अपने साथ लॉन्ग ड्राइव पर ले चलिए। 

मैं उसे अपने साथ लॉन्ग ड्राइव पर ले गया जब वह मेरे साथ लॉन्ग ड्राइव पर आई तो मैं खुशी से झूम उठा और जैसे ही मैंने अपने लंड को बाहर निकाला तो संजना ने उसे अपने मुंह के अंदर ले लिया और उसको वह चूसने लगी। मुझे बहुत अच्छा लग रहा था संजना भी बहुत ज्यादा खुश थी काफी देर तक उसने मेरे लंड को चूसा जैसे ही मेरे अंदर से उसने मेरी पूरी जवानी को बाहर निकाल दिया तो मैंने भी उसे कहा चलो कहीं रुकता है। वह रूकने के लिए कहने लगी और हम लोग एक होटल में चले गए जब हम लोग वहां पर गए तो मैंने संजना को बिस्तर पर लेटा दिया।

मैने उसे कहा अब तुम मेरे लंड को चूस लो वह मेरे लंड को बड़े ही अच्छे तरीके से चूस रही थी और उसे बड़ा मजा आ रहा था। मुझे भी बहुत अच्छा लगता जिस प्रकार से संजना मेरे लंड को चुसती उससे मैं पूरी तरीके से मचलने लगा। मैंने संजना को नंगा कर दिया और उसकी योनि को चाटते हुए उसकी योनि के अंदर मैंने अपने मोटे लंड को प्रवेश करवा दिया जैसे ही मेरा मोटा लंड उसकी योनि में प्रवेश हुआ तो वह चिल्ला उठी। उसकी टाइट चूत मैं मेरा लंड जाते ही उसे बड़ा मजा आया मैंने उसके दोनों पैरों को कसकर पकड़ लिया। 

मैं उसे बड़ी तेज गति से धक्के दिया जा रहा था जिस प्रकार से मैं उसे धक्के मारता उसे वह भी बहुत उत्सुक होने लगी थी। वह मुझे कहने लगी आप मुझे और तेज धक्के दो मैं उसे कहने लगा तुम अपनी चूतडो को मेरे सामने कर लो मैं तुम्हें बड़ी तेजी से चोदूंगा। उसने अपनी चूतडो को मेरे सामने कर दिया और मैने उसे बड़ी तेज गति से धक्के दिए जिससे कि मै बिल्कुल भी ना रह सका जैसे ही मेरा वीर्य उसकी योनि में जा गिरा तो वह भी खुश हो गई।
ऑफिस गर्ल की दमदार चुदाई (Office Girl Ki Damdaar Chudai) ऑफिस गर्ल की दमदार चुदाई (Office Girl Ki Damdaar Chudai) Reviewed by Priyanka Sharma on 10:23 PM Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.