कस्टमर को खुश करने के लिए चुदी (Customer Ko Khush Karne Ke Liye Chudi)

कस्टमर को खुश करने के लिए चुदी
(Customer Ko Khush Karne Ke Liye Chudi)

मैंने बच्चों को तैयार कर के जल्दी से स्कूल भेज दिया था और सोचा था कि काम निपटा कर कुछ सामान खरीद लाऊं, मैं उस दिन अपने घर से कुछ दूरी पर ही सुपर मार्केट शॉपिंग करने के लिए चली गई। जब मैं सुपर मार्केट में गई तो वहां पर मैं जल्दी से सामान लेने लगी ताकि मुझे ज्यादा समय न लग जाए लेकिन फिर भी वहां पर मुझे करीब दो घंटे तो लग ही गए थे। 

मैंने जब अपनी घड़ी में समय देखा तो उस वक्त 11:00 बज चुके थे मुझे लगा कि अब मुझे घर चले जाना चाहिए क्योंकि बच्चे भी 1:00 बजे तक स्कूल से आ जाते है इसलिए मैं अब घर जाने की तैयारी करने लगी। मैंने एक बार सामान को टटोलकर देखना शुरु किया और सोचने लगी कि क्या कुछ छूट तो नहीं गया है लेकिन फिर भी काफी सारा सामान छूट चुका था जल्दी बाजी में जो समान हाथ आया मैंने वही उठा लिया।

मैं बिल काउंटर की तरफ बड़ी जैसे ही मैं बिल काउंटर की तरफ बड़ी तो वहां पर बिल काटने वाले युवक ने मुझे कहा मैडम आप अपने सामान को काउंटर पर रख दीजिए। मैंने अपने सामान को ठीक कर के काउंटर पर रख दिया तभी सामने से आती हुई मुझे कावेरी दिखाई दी कावेरी ने मुझे दूर से ही हाथ हिला दिया था वह कहने लगी मैं आती हूं और वह मेरे पास आ गई। 

मैं उस वक्त बिल कटवा रही थी उससे मैं ज्यादा बात ना कर सकी थोड़ी बहुत बात उसने भी की और मुझे कहने लगी तुमने तो बिल कटवा लिया है मैं अभी आती हूं। कावेरी ने कुछ सामान तो नहीं लिया लेकिन वह करीब 15 मिनट में आ चुकी थी 15 मिनट मैं बाहर ही खड़ी रही और जब कावेरी आई तो कावेरी मुझे कहने लगी मीना तुम तो बहुत मोटी हो चुकी हो। 

मैंने कावेरी की तरफ देखा और कहा हां यार बस अब शादी को 8 वर्ष भी तो हो चुके हैं कावेरी मुझे कहने लगी तुम्हारे माता-पिता ने तुम्हारी शादी बड़ी जल्दी कर दी मैंने तो अभी दो वर्ष पहले ही शादी की है और मुझे देखो मैं कितनी मेंटेन हूं। कावेरी अपने आप को मुझसे ऊंचा दिखाने की कोशिश कर रही थी लेकिन फिर भी वह मेरे कॉलेज की दोस्त थी इसलिए मैं उससे ज्यादा कुछ कह ना सकी। मैंने कावेरी से कहा लेकिन तुमने तो मुझे अपनी शादी में बुलाया ही नहीं तो कावेरी कहने लगी मैंने अपनी शादी दुबई में की थी और कुछ चुनिंदा लोगों को ही हम लोग बुला पाए।

मैं अपने दिल में सोचने लगी कि क्या मैं कावेरी की शादी में जाने लायक नहीं थी लेकिन कावेरी अपनी बातों से जैसे मुझ पर गोले दाग रही थी उसकी बातें मेरे सीने में आकर लगती और मुझे लगता कावेरी पूरी तरीके से बदल चुकी है वह अब पहले जैसे नहीं रही। हम लोग करीब एक घंटे तक साथ में रहे और मैंने कावेरी से कहा अभी मैं चलती हूं कावेरी कहने लगी तुम कैसे जाओगी। 

मैंने कहा मैं टैक्सी ले लूंगी कावेरी मुझे कहने लगी मैं तुम्हें घर छोड़ देती हूं, मैंने कावेरी से कहा नहीं मैं चली जाऊंगी लेकिन कावेरी मुझसे जिद करने लगी और कहने लगी मैं तुम्हें घर छोड़ देती हूं। मैं भी कावेरी की बातों को मना ना कर सकी और वह मुझे घर छोड़ने के लिए आ गई जब कावेरी ने अपनी बड़ी सी गाड़ी निकाली तो मैं उसे देखती रह गई। मैं गाड़ी में बैठी तो कावेरी ने ए सी ऑन किया और कहां गर्मी बहुत ज्यादा हो रही है मुझे तो धूप में बिल्कुल भी अच्छा नहीं लगता। 

इसके साथ कावेरी ने गाड़ी स्टार्ट की और मुझे कहने लगी तुम मुझे अपने घर का रास्ता बता देना मैंने कहा ठीक है मैं कावेरी को अपने घर का रास्ता बता रही थी जब वह मेरे घर पर आई तो मैंने उसे कहा चलो तुम अंदर आ जाओ कावेरी कहने लगी नहीं मैं चलती हूं लेकिन मैंने उसे अंदर बुला ही लिया। कावेरी जब घर के अंदर आई तो कहने लगी कि तुम्हारे घर में कितनी गर्मी हो रही है क्या तुम्हारे पास ए सी नहीं है मैंने कावेरी से कहा नहीं वह कहने लगी तुम्हें ए सी क्यों नहीं ले लेती। 

मैंने कावेरी से कहा हमारा इतना बजट नहीं होता कावेरी कहने लगी बजट तो बनाना ही पड़ेगा। मैंने कावेरी को फ्रिज से पानी निकाल कर दिया और कावेरी कुछ देर मेरे साथ बैठी रही फिर वह चली गई कावेरी ने मुझे अपने घर का एड्रेस दिया और अपना मोबाइल नंबर दिया वह कहने लगी तुम मेरे घर पर आना। मैंने कावेरी से कहा ठीक है मैं देखती हूं जब मुझे समय मिलेगा तो मैं तुमसे मिलने जरूर आऊंगी और फिर कावेरी घर से चली गई।

मैं तो मन ही मन में सोचने लगी कि कावेरी का परिवार तो बिल्कुल सामान्य सा था लेकिन कावेरी की काया कैसे पलट गई वह तो पूरी तरीके से बदल चुकी थी और उसकी बातों में अब जैसे घमंड की बू आने लगी थी और वह बहुत ही ज्यादा बड़ी बातें कर रही थी लेकिन मैं तो अपने बच्चों के लिए खाना बनाने लगी। 

मैं अपने जीवन से खुश थी मुझे अपने पति से बहुत प्यार था और मैं अपने बच्चों से भी प्यार करती थी इसलिए मैं उतने में ही संतुष्ट थी तभी कुछ देर बाद बच्चे घर आ गए। मैंने बच्चों को कहा कि बेटा तुम्हे बहुत गर्मी लग रही होगी मैं तुम्हें अभी जूस बनाकर देती हूँ वह कहने लगे नहीं मम्मी हमें आप कोल्ड ड्रिंक पिला दीजिए। 
कस्टमर को खुश करने के लिए चुदी (Customer Ko Khush Karne Ke Liye Chudi)
कस्टमर को खुश करने के लिए चुदी (Customer Ko Khush Karne Ke Liye Chudi)
मैंने बच्चों को कोल्ड ड्रिंक दी और उसके बाद वह लोग अपने रूम रूम में चले गए मैंने भी उन्हें कहा चलो तुम कपड़े बदल लो। बच्चों ने कपड़े बदल लिए थे और मैंने उन्हें खाना खिलाया अब मैं सोने की कोशिश कर रही थी लेकिन मुझे नींद नहीं आ रही थी मैंने सोचा कुछ काम कर लेती हूं। मैं काम करने लगी तभी मैंने देखा बच्चे भी उठ गए थे मैंने बच्चों को कहा कि तुम सो क्यो नहीं जाते तो बच्चे कहने लगे मम्मी हमें नींद नहीं आ रही है।

मैं भी बच्चों के साथ बैठ गई और उनके साथ में लूडो खेलने लगी शाम का समय हो गया और मैंने जब घड़ी में समय देखा तो उस वक्त 5:00 बज रहे थे मैंने अपने पति को फोन करते हुए कहा आप कब तक आएंगे। वह कहने लगे मुझे आने में थोड़ा समय लग जाएगा मैंने उनसे पूछा पर फिर भी कितने बजे तक आप घर आ जाएंगे। वह कहने लगे मुझे आने में 8:00 तो बज ही जाएंगे मैंने उन्हें कहा चलो कोई बात नहीं तब तक मैं भी खाना बनाने की तैयारी कर लेती हूं। 

मैं रसोई में खाना बना रही थी तब तक मेरे पति भी आ चुके थे और जब वह आए तो वह मुझे कहने लगे मुझे पानी पिला दो। मैंने उन्हें पानी दिया और पूछा आज आपको आने में देर हो गई तो वह कहने लगे हां दरअसल ऑफिस में मीटिंग थी इसलिए आने में देर हो गई मैंने कहा चलिए आप फ्रेश हो जाइए। वह फ्रेश होने के लिए चले गए और मैं रसोई में खाना बनाने के लिए चली गई मैं खाना बना चुकी थी और हम लोगों ने रात का डिनर करने के बाद हम लोग करीब 11:00 बजे तक सो चुके थे। 

मैंने अपने पति को कावेरी की बात भी बताई थी और अगले दिन दोबारा मेरी वही दिन चर्या शुरू हो गई। उसी दिनचर्या से मैं तंग आ चुकी थी और हर रोज की तरह वही वह बच्चों को तैयार करो और अपने पति के लिए टिफिन बनाओ इस बात से मैं काफी परेशान थी तो एक दिन मैंने सोचा मैं कावेरी के पास चली जाती हूं। मैं कावेरी से मिलने के लिए चली गई जब मैं कावेरी से मिलने के लिए गई तो वहां पर उसकी सच्चाई मेरे सामने आई कावेरी एक प्रॉस्टिट्यूट बन चुकी थी वह ना जाने कितने ही लोगों के साथ अब तक सेक्स संबंध बना चुकी थी। 

कावेरी के ना जाने कितने लोगों के साथ संबंध है परंतु उसने जब मुझे यह बात बताई कि यदि तुम भी यह सब करोगी तो तुम्हें उसके बदले पैसे मिलेंगे। मैंने उसे मना कर दिया परंतु मैंने जब कावेरी कि जिंदगी के बारे में सोचा कि कावेरी भी तो अपनी जिंदगी में सामान्य तरीके से जी रही है और वह भी तो एक कॉल गर्ल ही है आखिरकार मैंने भी यह फैसला कर ही लिया था।

मैंने कावेरी से कुछ पैसे उधार ले लिए मैं जिम में जाकर अपने वजन को घटाने लगी थी मेरा वजन घट चुका था मेरा बदन बिल्कुल 25 वर्षीय लड़की की तरह लगने लगा। जब पहली बार में कस्टमर के पास गई तो मुझे थोड़ा अजीब सा महसूस हुआ लेकिन फिर मैंने सोचा कि कोई बात नहीं आज कर ही लेते हैं। 

मुझे अंदर से अच्छा नही लग रहा था लेकिन जब उस कस्टमर ने मेरे होठों को चूमना शुरू किया तो मुझे अच्छा लगने लगा। जब उन्होंने मुझे पैसे दिए तो मेरा मन भी मचलने लगा मैंने उन्हें खुश करने के बारे में सोच लिया था। जिस प्रकार से मैंने उनके लंड को अपने मुंह के अंदर सामा लिया तो वह भी खुश हो गए और कहने लगे थोड़ा और अंदर लो। मैंने भी उनके लंड को अपने गले के अंदर ले लिया था और जिस प्रकार से उनके अंडकोष मेरे मुंह से टकरा रहे थे उससे वह भी खुश हो गए थे।

मैंने उनके लंड से पानी बाहर निकाल दिया था जब उन्होंने अपने लंड पर कंडोम चढाया और मुझे घोडी बनाकर उन्होंने अपने लंड को मेरी योनि के अंदर प्रवेश करवाएं तो मुझे थोड़ा दर्द हुआ लेकिन जैसे ही उनका लंड मेरी चूत के अंदर प्रवेश हो गया तो मुझे अच्छा लगने लगा। वह मुझे बड़ी तेज गति से धक्के मारने लगे उनका लंड मेरी योनि के अंदर बाहर होता तो मैं चिल्लाने लगी थी। 

वह मेरी चूत बड़ी तेजी से मार रहे थे जिस प्रकार से उन्होने धक्के दिए उसे मैं बिल्कुल भी रह ना सकी और उनका वीर्य मेरी योनि में गिर गया। मैंने जब उनसे पूछा कि आपने तो कंडोम पहना हुआ था तो वह कहने लगे तुम्हारी चूत की गर्मी से कंडोम फट गया तुम्हारे अंदर मेरा वीर्य गिर चुका है। मैने उन्हे कहा कोई बात नहीं घर जा कर दवा ले लूंगी मैंने घर जाकर दवा ले ली। मेरा अब डर खत्म हो चुका था शायद मेरी भी पैसे की भूख बढ़ने लगी थी और मैं कावेरी के रास्ते पर चल पड़ी थी।
कस्टमर को खुश करने के लिए चुदी (Customer Ko Khush Karne Ke Liye Chudi) कस्टमर को खुश करने के लिए चुदी (Customer Ko Khush Karne Ke Liye Chudi) Reviewed by Priyanka Sharma on 10:15 PM Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.